बलौदाबाजार संयुक्त कार्यालय परिसर के ध्वजखंभ में सफेद ध्वजा लगाने वाला आरोपी गिरफ्तार

बलौदाबाजार संयुक्त कार्यालय परिसर के ध्वजखंभ में सफेद ध्वजा लगाने वाला आरोपी गिरफ्तार

बलौदाबाजार से संवाददाता उमेश वाजपेयी की रिपोर्ट

बलौदाबाजार। संयुक्त कार्यालय मुख्य गेट के सामने स्थित ध्वजखंभ के उपर चढकर नारेबाजी एवं चिल्लाते हुए लोगों को भड़काकर सफेद ध्वजा लगाने वाले आरोपी डिगेश्वर बांधे को पकडा गया है। आरोपी को गिरफ्तार कर न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत करने की प्रक्रिया की जा रही है। प्रकरण में 21 जून तक की स्थिति में बलौदाबाजार में तोड़फोड़ एवं आगजनी की घटना को अंजाम देने वाले कुल 138 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

पुलिस के मुताबिक आरोपी डिगेश्वर बांधे ( 21 साल) निवासी ग्राम कोरदा थाना लवन है।आरोपी द्वारा संयुक्त कार्यालय परिसर में लोगों को भड़काते एवं उकसाते हुए ध्वजखंभ के ऊपर चढ़कर सफेद ध्वजा लगा दिया गया था। वीडियो, फोटो, सीसीटीवी फुटेज एवं अन्य तकनीकी विश्लेषण के आधार पर प्रकरण में शामिल आरोपियों की पहचान कर की जा रही है। 

10 जून को बलौदाबाजार में आयोजित धरना प्रदर्शन में शामिल लोगों द्वारा आक्रोशित होकर पुलिस बल के साथ झूमाझपटी, पत्थरबाजी, मारपीट करते हुए संयुक्त कार्यालय परिसर एवं वहां खडी वाहनों में भी तोड़फोड़ करते हुए आग लगा दिया गया। इस बीच सुरक्षा व्यवस्था में लगे कई पुलिस अधिकारी कर्मचारी एवं प्रशासनिक अधिकारियों को गंभीर चोटें आई है। इस पूरे घटनाक्रम में एक विशेष बात सामने आई थी कि एक आरोपी द्वारा संयुक्त कार्यालय परिसर स्थित ध्वजखंभ के ऊपर चढ़कर, नारेबाजी करते हुए एवं चिल्लाते हुए सफेद ध्वजा लगा दिया गया था। 

धरना प्रदर्शन का आयोजन करने वाले तथा इस दौरान गाली गलौज कर तोड़फोड़ एवं पत्थरबाजी करते हुए, वाहन एवं संयुक्त कार्यालय में आगजनी करने वाले आरोपियों के विरुद्ध थाना सिटी कोतवाली में विभिन्न धाराओं में अपराध पंजीबद्ध किया गया है। इसमें शामिल आरोपियों एवं उपद्रवी तत्वों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की अलग-अलग टीमों का निर्माण कर संभावित स्थलों में लगातार दबिश दी जा रही है।

प्रकरण में शामिल अन्य आरोपियों की वीडियो, फोटो, सीसीटीवी फुटेज एवं अन्य तकनीकी विश्लेषण के आधार पर सरगर्मी से पता तलाश जारी है। प्रकरण में जांच विवेचना कार्यवाही अभी जारी है।

इसी क्रम में पुलिस द्वारा धरना प्रदर्शन का आयोजन करने वाले एवं धरना प्रदर्शन के दौरान उद्दंड उपद्रव करने वाले लोगों का चिन्हांन कर उनकी गिरफ्तारी को प्राथमिकता के आधार पर लिया गया है। पुलिस की अलग-अलग टीम द्वारा आयोजकों के नाम, पते, फोटो आदि की पहचान कर उनके छिपने की हर संभावित ठिकाने पर लगातार दबिश दी जा रही। साथ ही मुखबिर के माध्यम से भी इन आरोपियों के संबंध में जानकारी जुटाई जा रही।