अवैध रेत उत्खनन और परिवहन पर करें कड़ी कार्रवाई : प्रभारी मंत्री जायसवाल

अवैध रेत उत्खनन और परिवहन पर करें कड़ी कार्रवाई : प्रभारी मंत्री जायसवाल

बलौदाबाजार से संवाददाता उमेश वजपेयी की रिपोर्ट

बलौदाबाजार। प्रदेश क़े स्वास्थ्य मंत्री एवं जिले क़े प्रभारी मंत्री श्याम बिहारी जायसवाल ने शुक्रवार को जिला मुख्यालय बलौदाबाजार स्थित सर्किट हाउस में विभागीय अधिकारियों की पहली समीक्षा बैठक ली। उन्होंने  विभागों द्वारा संचालित योजनाओं क़े क्रियान्वयन तथा लंबित प्रकरणों क़े सम्बन्ध में विस्तृत समीक्षा की। उन्होंने रेत क़े अवैध उत्खनन, परिवहन एवं भंडारण क़े मामले को गंभीरता से लेते हुए इस पर पूरी तरह से रोक लगाने क़े लिए कड़ी कार्रवाई करने क़े निर्देश दिए।

प्रभारी मंत्री जायसवाल ने कहा कि जिन क्षेत्रों में रेत खदान नहीं है उन क्षेत्रों क़े लोगों को अपने निजी उपयोग क़े लिए ट्रैक्टर में रेत ले जाने में प्रबंधित न किया जाय लेकिन रेत खदान से व्यवसायिक रूप से अवैध तरीके से उत्खनन करने वालों पर सख्त कार्यवाही करें।

अवैध रेत उत्खनन में लगे चैन माउंटेन एवं परिवहन कर रहें वाहनो पर जब्ती की कार्यवाही करें। उन्होने खनिज विभाग क़े अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश देते हुए कहा कि व्यवसयिक रूप से रेत क़े अवैध उत्ख़नन करने वालों पर कोई समझौता बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

उन्होंने आगामी बारिश में मौसमी बीमारियों से निपटने क़े लिए पूर्व तैयारी सुनिश्चित करने तथा बाढ़ प्रभावित गांवों में दवाई एवं अन्य प्राथमिक इलाज की सुविधाएं व्यवस्थित करने क़े निर्देश दिए। स्वास्थ्य विभाग क़े अधिकारियों को दिए। मलेरिया एवं सिकलसेल की नियमित जांच एवं मलेरिया प्रभावित गांवो में मेडिकेटेड मच्छरदानी का वितरण कराने कहा। बारिश में शहरों में जल भराव की स्थिति  निर्मित न हो इसके लिए नालियों की साफ -सफाई तेजी से कराने क़े भी निर्देश दिए।

बारनवापारा अभ्यारण्य उत्कृष्ट पर्यटन केंद्र क़े रूप में होगा विकसित

प्रभारी मंत्री जायसवाल ने बारनवापरा अभ्यारण्य को प्रदेश का उत्कृष्ट पर्यटन केंद्र क़े रूप में विकसित करने क़े लिए कार्ययोजना बनाने क़े निर्देश वन विभाग क़े अधिकारियों को दिए। उन्होंने कहा कि अभ्यारण्य में अन्य सुविधाओं क़े साथ बोटिंग एवं सेल्फी जोन का भी आकर्षण हो। प्रवासी पक्षियों  को आकर्षित करने के लिए जलाशय में उपयुक्त जलभराव की व्यवस्था होनी चाहिए। उन्होंने कहा की बारनवापरा अभयारण्य राजधानी एवं न्यायधानी क़े नजदीक होने तथा अवगमन की सुविधा होने से पर्यटकों की संख्या में काफी वृद्धि होगी।

मछली पालन को बढ़ावा देने चलेगा जल से आजीविका अभियान

प्रभारी मंत्री ने वृहद स्तर पर किसानों को मछली पालन के लिए प्रोत्साहित करने हेतु जिले में जल से आजीविका अभियान शुरू करने कहा। अभियान के लिए मछली पालन विभाग क़े अधिकारियों को इच्छुक किसानों का चिन्हांकन कर निःशुल्क अच्छे गुणवत्ता क़े स्पान एवं फीडिंग्स उपलब्ध कराने क़े निर्देश दिए। उन्होंने कहा की मछली पालन एक ऐसा  व्यवसाय है जिसमें बहुत ही सीमित संसाधन और कम समय में अधिक फायदा लिया जा सकता है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार की प्राथमिकता किसानों, युवाओं और महिलाओं को रोजागर -स्वरोजगार से जोड़कर उन्हें आर्थिक रूप से सशक्त करना है। उन्होंने पशुपालन विभाग के अधिकारियों को गौवंश क़े संरक्षण एवं संवर्धन पर विशेष ध्यान देते हुए मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय की मंशानुरूप गौअभ्यारण्य  क़े लिए स्थल चिन्हांकन करने क़े निर्देश दिए। इसी प्रकार जिले को हरा -भरा बनाने क़े लिए वृहद वृक्षारोपण करने तथा स्कूलों, आंगनबाडी केंद्रों एवं अस्पतालों में फलदार एवं फूलदार पौधे लगाने क़े निर्देश दिए।

सभी निजी अस्पतालों में आयुष्मान कार्ड से इलाज की सुविधा जल्द

जिले में संचालित करीब 30 निजी अस्पतालों में से 13 अस्पताल  ही आयुष्मान कार्ड क़े माध्यम से ईलाज क़े लिए इम्पैनल्ड होने पर प्रभारी मंत्री ने सभी  निजी अस्पतालों को इम्पैनल्ड कर गरीबों को निःशुल्क ईलाज मुहैया कराने क़े निर्देश दिए। उन्होने जिला अस्पताल क़े एम्बुलेंस 108 एवं 102 को प्राथमिकता से जिला अस्पताल क़े मरीजों को ही रिफरल केस में अन्य अस्पताल ले जाने कहा. उन्होंने बताया कि एम्बुलेंस की मॉनिटरिंग अब जीपीएस  सिस्टम से होगी जिससे एम्बुलेंस की लाईव लोकेशन का पता चल जाएगा।

कलेक्टर दीपक सोनी ने  कहा कि प्रभारी मंत्री द्वारा दिए गए निर्देशों का सभी अधिकारी अक्षरशः पालन सुनिश्चित करें तथा समय -सीमा में कार्य पूरा करें। उन्होने  प्रभारी मंत्री द्वारा दिए गए निर्देशों का अनुपालन सुनिश्चित कराने का भरोसा दिलाया।

बैठक में पूर्व संसदीय सचिव डॉ.सनम जाँगड़े,अपर कलेक्टर सुश्री दीप्ति गौते सहित विभिन्न विभागों क़े जिला अधिकारी उपस्थित थे।