मोदी सरकार के बजट से राज्यों के विकास को भी मिलेगी गति और मजबूती : आदित्य

मोदी सरकार के बजट से राज्यों के विकास को भी मिलेगी गति और मजबूती : आदित्य

बालोद से संवाददाता दीपक देवदास की रिपार्ट 

गुरुर। विगत दिनों प्रस्तुत हुए केंद्रीय बजट पर प्रतिक्रिया देते हुए भारतीय जनता युवा मोर्चा के जिला अध्यक्ष आदित्य पिपरे  ने कहा कि मोदी सरकार का बजट विकसित भारत का एक विजन प्रस्तुत करने वाला बजट है। इस बजट में भारत के सर्वांगीण विकास के प्रावधान देखने को मिल रहे है। देश का पूंजीगत व्यय और बढ़ा दिया गया है अब यह 11 लाख करोड़ होगा। पूंजीगत व्यय से देश में एक तरफ आधारभूत संरचना मजबूत होगी वहीं निवेश की संभावनाएं भी बढ़ेगी और वहीं बड़ी मात्रा में रोजगार का सृजन होगा और विकसित भारत के सपने के साकार करने भारत तेज गति से आगे बढ़ेगा। उन्होंने कहा केंद्र ने हमेशा राज्यों को बड़ी मदद दी है। इस बार भी बजट में राज्यो के लिए 75 हजार करोड़ का ब्याज मुक्त ऋण देने का प्रावधान किया गया है जो स्वागत योग्य है। छत्तीसगढ़ प्रदेश को भी इसका लाभ मिलेगा। भारत देश ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव तक झंडा गाड़ दिया है मोदी सरकार ऐसे कई और रिकॉर्ड बनाने के लिए संकल्पित है इसीलिए रिसर्च कार्य के लिए भी 1 लाख करोड़ का प्रावधान स्वागत योग्य है। एक करोड़ घरों को 300 यूनिट मुफ्त सोलर बिजली दिए जाने से जरूरतमंदों को बड़ी राहत मिलेगी। वहीं ग्रामीण इलाको में 2 करोड़ नए घर बनने से ग्रामीण अर्थव्यवस्था में भी एक बड़ी तेज़ी दिखने के साथ गरीबों को अपनी छत मिलने से उनके जीवन का बड़ा सपना साकार होगा। उन्होंने आगे कहा की भारतीय रेलवे भी अब पूरी तरह यात्रियों के लिए सुविधा युक्त होने जा रहा है लगभग 40 हजार डिब्बे वंदे भारत के मानकों की तरह बनाए जायेंगे । देश में कैंसर से लड़ाई लड़ने 9 से 14 वर्ष की बच्चियों को सर्वाइकल कैंसर के मुफ्त टीके लगाया जाना प्रधानमंत्री मोदी जी की देश की महिलाओं के स्वास्थ्य के प्रति बड़ी संवेदनशीलता को दिखाता है। अब हमारी एक करोड़ और बहने लखपति दीदी बनेगी और अपने जीवन को स्वाभिमान और गर्व के साथ जीकर देश की तरक्की में अपना योगदान देंगी। 1 करोड़ करदाताओं को उनके 10 वर्षों से लंबित 10 हजार तक के टैक्स से माफी एक एतिहासिक कदम है । भारत के आर्थिक हालातों में 10 वर्षों में हुए बदलावों पर श्वेत पत्र जारी करने की घोषणा बताती है की मोदी सरकार परफॉर्मेंस में कितना विश्वास रखती है।