कांकेर कलेक्टर ने मेधावी छात्रों का किया सम्मान,कहा-शिक्षा अनमोल है,सफलता के लिए इसकी निरंतरता बेहद जरूरी

कांकेर कलेक्टर ने मेधावी छात्रों का किया सम्मान,कहा-शिक्षा अनमोल है,सफलता के लिए इसकी निरंतरता बेहद जरूरी

राज्य में कांकेर जिले का दूसरा स्थान,प्रावीण्य सूची में  जिले के 9 विद्यार्थी

उत्तर बस्तर कांकेर। माध्यमिक शिक्षा मंडल छत्तीसगढ़ द्वारा बोर्ड परीक्षाओं के परिणाम जारी कर दिए गए हैं। इसकी प्रावीण्य सूची में जिले के 9 विद्यार्थियों ने जगह बनाई है। स्कूल शिक्षा विभाग एवं आदिवासी विकास विभाग के संयुक्त तत्वावधान में आज कलेक्टर अभिजीत सिंह की अध्यक्षता में सम्मान समारोह का आयोजन किया गया, जिसमें प्रावीण्य सूची में स्थान बनाने वाले सभी विद्यार्थियों और उनके पालकों व शिक्षकों को सम्मानित किया गया।
जिला कार्यालय स्थित कम्पोजिट बिल्डिंग के सभाकक्ष में आयोजित सम्मान समारोह में उपस्थित विद्यार्थियों एवं पालकों को कलेक्टर सिंह ने सभी विद्यार्थियों को अपनी शुभकामनाएं एवं बधाई देते हुए कहा कि पूरे प्रदेश में कांकेर जिले के विद्यार्थियों के द्वारा उत्कृष्ट प्रदर्शन करना बड़ी उपलब्धि है। इसके लिए छात्र-छात्राओं, शिक्षकों, पालकों और विभाग के अधिकारियों ने काफी मेहनत की है। कलेक्टर ने अपने उद्बोधन में आगे कहा कि शिक्षा अनमोल है, जिसकी कीमत आंकी नहीं जा सकती। यह एक ऐसा धन है, जिसे जितना बांटोगे, उतना ही बढे़गा। शिक्षा से ही समाज और देश के बेहतर भविष्य का निर्धारण होता है, अतः इसकी निरंतरता से व्यक्ति सफलता की ओर अग्रसर होता है।

उन्होंने विद्यार्थियों को समझाइश देते हुए कहा कि जो विद्यार्थी कुछ अंक से चूक अथवा पिछड़ गए उन्हें निराश होने की जरूरत नहीं है, क्योंकि कामयाबी का मापदंड सिर्फ अच्छे अंक ही नहीं होते। इस अवसर पर उन्होंने प्रावीण्य सूची में स्थान बनाने वाले सभी छात्र-छात्राओं को स्मृति चिन्ह, मेडल तथा टैबलेट प्रदान कर सम्मानित किया। कलेक्टर के पूछे जाने पर किसी विद्यार्थी ने इंजीनियर, किसी ने डॉक्टर, किसी ने आईएएस अधिकारी तो किसी टीचर बनने की मंशा जाहिर की, जिस पर उन्होंने सभी को बेहतर भविष्य के लिए अपने निर्धारित लक्ष्य हासिल करने दृढ़ इच्छाशक्ति, संकल्प के साथ मेहनत करने की बात कही।

प्रयास आवासीय विद्यालय के 4 विद्यार्थियों के नाम प्रावीण्य सूची में

कक्षा दसवीं बोर्ड परीक्षा में प्रयास आवासीय विद्यालय कांकेर के छात्र मयंक कोर्राम और पायल अधिकारी ने 97.67 प्रतिशत अंक के साथ सातवें स्थान पर रहे। इसी तरह इसी विद्यालय की वर्षा साहू और शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय भानुप्रतापपुर की तान्याश्री मढ़रिया ने 97.33 प्रतिशत के साथ 9वें स्थान और प्रयास आवासीय विद्यालय कांकेर की मल्लिका मरकाम ने 97.17 प्रतिशत अंक अर्जित कर राज्य में दसवें स्थान पर रहीं। इसके अलावा कक्षा 12वीं की बोर्ड परीक्षा में शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय तुड़गे की छात्रा कु. वेदिका निषाद ने 95.6 प्रतिशत अंकों के साथ राज्य में सातवें स्थान पर रहीं और शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मरोड़ा की कंकना घरामी ने 95.4 प्रतिशत के साथ आठवें स्थान पर जगह बनाई।  कंकना वर्ष 2022 की प्रावीण्य सूची में कक्षा 10वीं में भी 97.5 प्रतिशत अंक अर्जित कर 7वें स्थान पर रहीं।
इसी तरह संस्कार वैली उच्चतर माध्यमिक विद्यालय भानुप्रतापपुर की निधि गोगड़ ने 95 प्रतिशत अंक के साथ राज्य में दसवां स्थान प्राप्त किया। इस अवसर पर जिला पंचायत के सीईओ सुमित अग्रवाल, सहायक आयुक्त आदिवासी विकास के एल.आर. कुर्रे सहित शिक्षा विभाग के अधिकारी-कर्मचारी एवं विद्यार्थियों के पालक उपस्थित थे।

उल्लेखनीय है कि जिला प्रशासन के विशेष पहल पर विद्यार्थियों के शिक्षा स्तर में वृद्धि करने के लिए अनेक प्रयास किए गए। जिला से लेकर शाला स्तर पर फोकस करते हुए कई नवाचार किए गए। इसके परिणामस्वरूप कक्षा दसवीं में 9 हजार 124 विद्यार्थियों में से 5 हजार 136 प्रथम स्थान पर, 3 हजार 151 द्वितीय स्थान पर और 145 विद्यार्थी तृतीय स्थान पर सफलता हासिल की। इसी प्रकार कक्षा 12वीं बोर्ड परीक्षा में 8 हजार 16 पंजीकृत विद्यार्थियों में से 04 हजार 159 प्रथम, 3 हजार 43 द्वितीय और 132 विद्यार्थी तृतीय स्थान पर रहे।