शिक्षा के प्रति बच्चों को जागरूक करना जरूरी है : चंद्रकांत तिवारी

शिक्षा के प्रति बच्चों को जागरूक करना जरूरी है : चंद्रकांत तिवारी

जांजगीर-चांपा से संवाददाता राजेश राठौर की रिपोर्ट 

मंडल सदस्य ने सेजेस पामगढ में नवप्रवेशी छात्रों को तिलक लगाकर कराया शाला प्रवेशोत्सव

जांजगीर-चांपा। सत्र 2024-25 अंतर्गत स्कूल शुरू हो गया। इस दौरान जिले के स्कूलों में धूमधाम से शाला प्रवेश उत्सव मनाया गया। नगर पंचायत पामगढ  में संचालित स्वामी आत्मानंद स्कूल में आयोजित शाला प्रवेशोत्सव में छत्तीसगढ माध्यमिक शिक्षा मण्डल के नवनियुक्त सदस्य चंद्रकांत तिवारी के मुख्य आतिथ्य  पामगढ के सरपंच तेरसराम यादव  की अध्यक्षता एवं प्राचार्य एक्का मैडम सत्यनारायण शर्मा सुबोध तिवारी भवानी साहू आर के बंजारे के विशिष्ट आतिथ्य मे मनाया गया। इस मौके पर  स्थानीय जनप्रतिनिधियों ने नवप्रवेशित बच्चों को तिलक लगाकर और चाकलेट प्रदान कर सम्मानित किया। कार्यक्रम में स्कूली बच्चों द्वारा मनमोहक नृत्य प्रस्तुत कर अतिथियों का स्वागत किया गया।
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए छत्तीसगढ माध्यमिक शिक्षा मंडल के सदस्य चंद्रकांत तिवारी  ने कहा कि शाला प्रवेशोत्सव का मुख्य उद्देश्य सभी बच्चों को शिक्षा की मुख्यधारा से जोड़ना है। उन्होंने कहा कि एक भी बच्चा शिक्षा से वंचित न हो। यह हम सबका दायित्व होना चाहिए। उन्होंने अपने स्कूली जीवन के समय की कठिनाईयों का जिक्र करते हुए बताया कि पहले स्कूल काफी दूर में होते थे, सुविधाओं का अभाव था। आज के समय में स्कूल नजदीक होने के साथ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय की मंशानुरूप शासन द्वारा स्कूलों में विभिन्न सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। बच्चों को स्कूलों में निःशुल्क गणवेश, पाठ्य पुस्तक, साइकिल आदि सुविधाएं मिल रही हैं। उन्होंने बच्चों को इसका लाभ उठाते हुए उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी।
सरपंच तेरसराम यादव  ने कहा कि बेहतर नागरिक बनने के लिए अच्छी शिक्षा जरूरी है। मेहनत और लगन से अपने लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकता है। सभी बच्चे मन लगाकर पढ़ाई करें। पाठ्यक्रम को समझकर पढें। उन्होंने कहा कि पढ़ाई के साथ खेलकूद भी जरूरी है, लेकिन सबका समय होता है, पढ़ाई के समय पढ़ाई करें और खेल के समय खेलें। सरपंच  ने शिक्षकों को बेहतर शिक्षा प्रदान करने के निर्देश दिए।

प्राचार्य एक्का मैडम ने भी शिक्षा को भविष्य के लिए आवश्यक बताया और सभी बच्चों को मन लगाकर पढ़ाई करने की बात कही। शाला प्रवेश उत्सव के दौरान स्कूली बच्चों को निःशुल्क गणवेश व पाठ्य पुस्तक का वितरण किया गया। इसके साथ ही कक्षा पहली से दसवीं तक के  छात्र-छात्राओं को पुस्तक व गणवेश  भेंट  किया गया। कार्यक्रम का सफल संचालन नैष्णव सर के व्दारा किया गया  इस अवसर पर स्थानीय जनप्रतिनिधिगण, गणमान्य नागरिक, स्कूल के प्राचार्य, शिक्षक-शिक्षिकाएं, पालक उपस्थित रहे।