अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस पर ज़िला अस्पताल के डॉ हरीश चौहान ने किया नर्सों का सम्मान

अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस पर ज़िला अस्पताल के डॉ हरीश चौहान ने किया नर्सों का सम्मान

गरियाबंद से संवाददाता विजय साहू की रिपोर्ट

गरियाबंद। ज़िला अस्पताल में नर्स दिवस के अवसर पर डॉक्टर हरीश चौहान ने नर्सों का सम्मान किया। इस दौरान अलग-अलग तरीके से नर्सों का मनोबल ऊंचा हो सके उनके किए फूल और चाकलेट देकर खुशी का इजहार किया गया। साथ ही नर्सों ने भी डॉक्टर हरीश चौहान को उपहार देकर सम्मानित किया। मौके पर डॉ. चौहान ने कहा कि नर्स का नाम सुनते ही सबसे पहले जो मन में भाव आता है वह सेवा का होता है। सभी नर्सों को अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस पर शुभकामनाएं दी। चिकित्सा के क्षेत्र में जितनी अहम भूमिका डाॅक्टर्स का होती है उतनी ही भूमिका नर्स की भी होती है। मरीजों को ठीक करने में नर्स अपनी सरहानीय भूमिका अदा करती है। इससे बड़ा सेवा एवं पुण्य का कार्य नहीं हो सकता है। एक नर्स अपने मरीज की भलाई व सेवा के कार्यों में तत्पर रहती है। नर्स अपने मरीजों की सेवा के लिए दिन-रात खड़ी रहती है। उन्होंने कहा कि एक नर्स स्वास्थ्य विभाग में रीढ़ की तरह होती है। नर्स के बिना चिकित्सा सेवा अधूरी होती है। मरीज की सेवा करने के साथ-साथ वह मरीज का हौसला भी बढ़ती है।

डॉ हरीश चौहान का मरीजों के साथ अपनापन देखते बनता है : यामिनी सिस्टर

डॉ. चौहान के साथ काम करने में ऐसा लगता है,जैसे हम अपने परिवार के साथ काम कर रहे है। उनका मरीजों के साथ अपनापन तो देखते ही बनता है। मरीजों को डॉ चौहान का आना ही दवा के बराबर लगता है, ये एक चीज हम सभी डॉ चौहान से सीखते है। कैसे मरीजों को अपने बुज़र्गो की तरह पेश आए और उनके सेहत कि ख़्याल रखे, डॉ साहब कहते है जब अस्पताल से मरीज़ स्वस्थ हो कर घर जाता है और उनके परिवार वालों के वचेहरे पर जो ख़ुशिया नज़र आती है। इससे बड़ा पुण्य कुछ नहीं है, हम सभी नर्स खुशनसीब है हमे डॉ हरीश चौहान के साथ काम करने का अवसर प्राप्त हो रहा है ।इस अवसर पर  सिस्टर यामिनी, सिस्टर मीनाक्षी, सिस्टर कुसुम, सिस्टर कविता, सिस्टर स्नेहा सहित अन्य सिस्टर उपस्थित थे।