सुपारी देकर कराई गई नारायणपुर में कांग्रेस नेता बैस की हत्या

सुपारी देकर कराई गई नारायणपुर में कांग्रेस नेता बैस की हत्या

नारायणपुर (चैनल इंडिया)। पुलिस ने कांग्रेस नेता विक्रम बैस की मर्डर मिस्ट्री सुलझा ली है। पुलिस के अनुसार मनीष राठौर और विक्रम बैस के बीच काफी लंबे समय से ट्रांसपोर्ट के काम लेकर अनबन चल रही थी। जिसके बाद मनीष ने यह क्राइम सीन तैयार किया और सुपारी किलिंग के माध्यम से घटना को अंजाम दिया ।
 नारायणपुर पुलिस अधीक्षक प्रभात कुमार ने बताया कि तीन घण्टे में हमने सुराग ढूंढ लिया था और सुराग हाथ लगने के बाद हमारी टीम दुर्ग, बिलासपुर और रायपुर पुलिस की मदद से अपराधियों तक पहुंच गई। पूरे मामले में छह लोगों की गिरफ्तारी की गई है। जिसमें पांच आदतन अपराधी हैं, जो हाल ही में जेल काट कर वापस आए हैं। वहीं पूरे मामले का मास्टर माइन्ड मनीष राठौड़ अब भी फरार है। जिसे तलाश किया जा रहा है।
 नारायणपुर एसपी ने बताया कि पूर्व में नारायणपुर जिले में पत्रकारों को धमकी भरा पत्र पोस्ट करने और शहर में जनप्रतिनिधियों को धमकी भरा फर्जी नक्सली बैनर लगाने जैसे मामले में भी मनीष राठौड़ का बड़ा हाथ रहा है। मनीष राठौड़ पर पूर्व में भी कई मामले चल रहे हैं। वहीं मनीष राठौड़ की मुलाकात शूटरों से जेल में हुई थी। जहां इन्होंने घटना को अंजाम देने का प्लान तैयार किया था।
 मामला बीते सोमवार की रात तकरीबन 10 बजे की है, जब विक्रम बैस ट्रांसपोर्ट यूनियन कार्यालय से अपने घर आ रहे थे। इसी बीच विक्रम बैस का पीछा कर रहे तीन बदमाश बखरूपारा में उनके घर के समीप उन्हें रोका और कुल्हाड़ी से पहले वार किया जिससे विक्रम अपनी बाइक से नीचे गिर गए। फिर बदमाशों ने पिस्टल से तीन गोलियां विक्रम के पर दाग दी। विक्रम बैस के सर में, छाती में और पेट में  गोली लगी। लहूलुहान हालत उन्हें जिला अस्पताल लाया गया। जहां उनकी मृत्यु हो गई। 
 पकड़े गए अपराधियों के पास से पुलिस ने एक नग पिस्टल सहित दो मोटर साइकल, धारदार हथियार भी बरामद किए हैं। पिस्टल बिहार से लाया गया था । नारायणपुर पुलिस ने पूरे हत्याकाण्ड की गुत्थी घटना के दो दिन के भीतर सुलझा ली है लेकिन पूरे घटना का मास्टर माइन्ड अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है।