कलेक्टर ने ली समय सीमा की बैठक, त्रुटि सुधार,धान-बीज उठाव, प्रशासनिक कार्यों में कसावट लाने दिए निर्देश

कलेक्टर ने ली समय सीमा की बैठक, त्रुटि सुधार,धान-बीज उठाव, प्रशासनिक कार्यों में कसावट लाने दिए निर्देश

नवीन न्याय संहिता का व्यापक प्रचार-प्रसार करने कलेक्टर ने दिए निर्देश

उत्तर बस्तर कांकेर। कलेक्टर नीलेश महादेव क्षीरसागर ने आज जिले के अधिकारियों की बैठक लेकर आगामी 1 जुलाई से लागू होने जा रही नवीन न्याय संहिता का व्यापक प्रचार-प्रसार करने के निर्देश दिए। इसके अलावा राजस्व विभाग में त्रुटि सुधार के लंबित प्रकरणों, जिले में वर्षा की स्थिति, धान-बीज का भंडारण एवं किसानों द्वारा उठाव सहित सभी कार्यालयों में अधिकारियों एवं कर्मचारियों को निर्धारित समय में कार्य पर उपस्थित होने निर्देश कलेक्टर ने दिए। 

इस दौरान उन्होंने विभागवार लंबित प्रकरणों की समीक्षा करते हुए सभी कार्य शीघ्रता से पूर्ण करने के लिए निर्देशित किया।

कलेक्टोरेट सभाकक्ष में आज सुबह 10.30 बजे से आयोजित समय-सीमा की बैठक में उन्होंने कहा कि शासन के निर्देशानुसार सभी कार्यालयों के अधिकारी- कर्मचारी नियत समय पर उपस्थित हो जाएं। उन्होंने कहा कि औचक निरीक्षण के दौरान यदि कोई अनुपस्थित पाया जाता है तो संबंधित के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाएगी। 

जिले की रेत खदानों में 15 जून से प्रतिबंधित होने के बावजूद अवैध रूप से उत्खनन, भंडारण, परिवहन की अनेक शिकायतें मिलने की बात कहते हुए उन्होंने इसमें संलिप्त लोगों के खिलाफ सख्ती से कार्यवाही करने के निर्देश सभी एसडीएम एवं खनिज अधिकारी को दिए। कलेक्टर क्षीरसागर ने बस्तर संभाग की सबसे महत्वाकांक्षी योजना नियद नेल्लानार की समीक्षा करते हुए कम उपलब्धि प्रदर्शित करने वाले विभागों को मिशन मोड में कार्य करने हेतु निर्देशित किया। इस दौरान प्रधानमंत्री आवास योजना के पूर्व एवं वर्तमान में स्वीकृत प्रकरणों के आधार पर निर्माण कार्य में तेजी लाने के लिए जिला पंचायत के सीईओ सुमित अग्रवाल को निर्देश दिए। रामलला दर्शन योजना की जानकारी देते हुए सीईओ ने बताया कि बुधवार की सुबह 6 बजे लाइवलीहुड कॉलेज कांकेर से 72 वरिष्ठ नागरिक दुर्ग रेलवे स्टेशन के लिए प्रस्थान करेंगे। उन्हांने बताया कि स्वास्थ्य परीक्षण उपरांत फिट पाए गए नागरिकों को बस से रवाना किया जाएगा। जिले के आकांक्षी विकासखण्ड कोयलीबेड़ा और दुर्गूकोंदल में योजनाओं के क्रियान्वयन की भी जानकारी इस दौरान ली।
बैठक में कलेक्टर ने सभी तहसील मुख्यालयों में वर्षामापी यंत्र दुरूस्त रखने के भी निर्देश दिए। जिले में धान बीज उठाव की समीक्षा करते हुए उप संचालक कृषि से जानकारी ली। उप संचालक ने बताया कि धान बीज के भंडारण का लक्ष्य 42 हजार 425 क्विंटल है, जिसके विरूद्ध जिले में वर्तमान में 31 हजार 841 का भंडारण है तथा अब तक 17 हजार 526 का वितरण किया जा चुका है। इसी तरह खाद के 56 हजार 200 मीट्रिक टन के लक्ष्य के विरूद्ध 50 हजार 472 का भंडारण किया जाकर 34 हजार 631 मीट्रिक टन खाद का वितरण किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि मांग के अनुरूप खाद का स्टॉक मौजूद है, किन्तु डीएपी खाद की अतिरिक्त आवश्यकता होगी। इसके अलावा नगरीय क्षेत्रों में होमगॉर्ड्स, राष्ट्रीय सेवा योजना, स्काउट गाईड्स तथा स्वच्छता दीदियों की सहयोग से सफाई अभियान चलाने और सघन वृक्षारोपण के लिए आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश अधिकारियों को दिए। 

बैठक में अपर कलेक्टर एस.अहिरवार, बीएस उईके, जितेन्द्र कुमार कुर्रे सहित जिला स्तर के अधिकारी उपस्थित थे।