सक्ति पुलिस की नई पहल : औषधि विभाग के साथ चलाया गया दवाई दुकानों में चेकिंग अभियान

सक्ति पुलिस की नई पहल : औषधि विभाग के साथ चलाया गया दवाई दुकानों में चेकिंग अभियान

सक्ती से संवाददाता मोहन अग्रवाल की रिपोर्ट

पुलिस अधीक्षिका अंकिता शर्मा के निर्देश पर की गई कार्रवाई

सक्ति।  क्षेत्र में नशे के बढ़ते अवैध कारोबार पर रोक लगाने की दिशा में पुलिस अधीक्षिका अंकिता शर्मा अपनी पदस्थापना के बाद से ही सतत प्रयास कर रही हैं।अवैध शराब के व्यवसाय के विरुद्ध पुलिस द्वारा की गई लगातार और कठोर कारवाई ने काफी हद तक अवैध शराब के व्यवसाय पर अंकुश लगाया है।अब पुलिस अधीक्षिका अंकिता शर्मा जी ने ड्रग्स के रूप में लिए जाने वाले सूखे नशे और टेबलेट के विरुद्ध अभियान चलाने के निर्देश दिए हैं और औषधि विभाग को साथ लेकर कारवाई करने पुलिस अधिकारियों को उनके द्वारा कहा गया है।

शहर में बढ़ते नशे के विरुद्ध, विशेकर युवा वर्ग जो की लगातार ऐसी प्रतिबंधित दवाओं का सेवन करके न सिर्फ अपना स्वाथ्य और भविष्य बर्बाद कर रहें हैं, बल्कि अपराध की ओर भी प्रवृत्त होते हैं, इसके लिए पुलिस अधीक्षिका अंकिता शर्मा ने  प्रभावी अभियान चलाने के निर्देश पुलिस अधिकारियों को दिए।
इस तारतम्य में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रमा पटेल के मार्गनिर्देशन में आज एसडीओपी सक्ती मनीष कुंवर ने औषधि विभाग के निरीक्षक सुमीत परिहार और सक्ति पुलिस से उप निरीक्षक अनवर अली और  उप निरीक्षक समीर डुंगडुंग मय टीम के साथ नगर के मेडिकल स्टोर्स में चेकिंग का विशेष अभियान चलाया।

इस अभियान के दौरान शक्ति नगर में स्थित खेतान मेडिकल , श्याम मेडिकल, डालमिया मेडिकल, अशोक मेडिकल , रतेरिया मेडिकल और गायत्री मेडिकल एवं दवा स्टोरेज़ गोदाम की औचक चेकिंग की गई।

इस चेकिंग में दवा दुकानों का लाइसेंस, प्रोपराइटर की जानकारी, फार्मास्यूटिकल के संचालक की डिग्री और वैध दस्तावेज, दवाओं की स्टॉक पंजी, विशेषकर एनआरएक्स (नारकोटिक्स ड्रग्स )के संबंध में रखे जाने वाले H 1रजिस्टर, स्टॉक पंजी, खरीदी बिक्री की पंजी, और मेडिकल प्रिस्क्रिप्शन का रिकॉर्ड रखने संबंधी दस्तावेज चेक किए गए।
कई दवा दुकानों में एक्सपायरी हो चुकी दवाइयां और मेडिकल किट स्टॉक में पाई गई,जिन्हे विधिवत डिस्पोजल( पर्यावरणीय अनुकूल) करने या कंपनी को वापस करने की हिदायत दी गई।विगत दो वर्षों की खरीदी बिक्री का रिकॉर्ड, रसीद और पंजी का लगातार संधारण करने बताया गया।
इस दौरान नारकोटिक्स ड्रग्स,विषेकर ऐसे दवाइयां जिनका लोग नशे के लिए इस्तेमाल करते हैं जैसे, अल्पाजोलम, नाईट्रा आदि और उनके सबसीडीरी को चेक कर दावा विक्रेताओं को सख्त हिदायत दी गई की बिना वैध मेडिकल प्रिस्क्रिप्शन और रिकॉर्ड को उचित तरीके से संधारित किए बिना ऐसे दवाओं के विक्रय करने पर एनडीपीएस एक्ट के प्रावधानों के तहत कठोर कारवाई की जायेगी।

इस संबंध में एसडीओपी सक्ति मनीष कुंवर ने बताया है कि पुलिस अधीक्षिका अंकिता शर्मा जी ने सख्त निर्देश दिए हैं की नशे की टेबलेट और दवाओं आवेश रूप से विक्रय करने वालों के विरुद्ध कठोर कारवाई की जायेगी। उसी के तारतम्य में आज ये पुलिस और औषधि विभाग का संयुक्त चेकिंग अभियान चलाया गया है। कई मेडिकल स्टोर्स में चेकिंग के दौरान कई अनियमितताएं पाई गई हैं, जिन्हें दुरुस्त करने की हिदायत दी गई है। दावा विक्रेताओं को स्पष्ट रूप से बता दिया गया है की यदि किसी भी प्रकार की अवैध प्रकार से नशे की गोलियों की बिक्री करते पाए जाने पर कठोर कारवाई की जायेगी, साथ ही यदि कोई व्यक्ति नशे की दवाई देने दबाव डालता है या भय दिखता है, तो उसकी सूचना भी तत्काल पुलिस को देने दवा विक्रेताओं को कहा गया है। अवैध नशे के विरुद्ध ये अभियान सतत जारी रहेगा,और सक्ति नगर के अलावा अन्य थाना क्षेत्रों में भी ऐसी ही चेकिंग कराई जाएगी।