नाबालिग से दुष्कर्म करने वाले आरोपी को 20 वर्ष की कठोर कारावास सजा – Channelindia News
Connect with us

 सक्ती

नाबालिग से दुष्कर्म करने वाले आरोपी को 20 वर्ष की कठोर कारावास सजा

Published

on

सक्ती(चैनल इंडिया)| फास्ट ट्रैक कोर्ट  के विशेष न्यायाधीश यशवंत कुमार सारथी ने एक 6 वर्ष की बालिका के साथ दुष्कर्म के मामले में अभियुक्त के विरुद्ध आरोपित अपराध प्रमाणित पाए जाने पर 18 वर्षीय आरोपी को 20 वर्ष की कठोर कारावास एवं अर्थदंड से दंडित करने का निर्णय पारित किया है।

विशेष लोक अभियोजक राकेश महंत के अनुसार यह   घटना जांजगीर-चांपा जिले के  सक्ती थाना क्षेत्र की है। दिनांक 4 जनवरी 2021 को 6 वर्ष  की मासूम बालिका अपने पड़ोस में बच्चों के साथ शाम 5:00 बजे खेल रही थी तो उसी समय अभियुक्त मासूम बालिका को उठाकर अपने घर के कमरे में ले जाकर दरवाजा बंद करके मासूम बालिका के साथ दुष्कर्म किया बालिका द्वारा चिल्लाने एवं रोने पर पीड़िता को छोड़ दिया मासूम बालिका रोते रोते अपने घर आई एवं घटना को अपने मम्मी को बताइ पीड़िता के साथ खेल रहे पड़ोसी बच्चों ने भी अभियुक्त द्वारा मासूम बालिका को उठाकर ले जाते हुए देखा गया तथा इसकी सूचना पीड़िता के मम्मी को दिया गया  पीड़िता की  मम्मी ने अपने पति एवं देव रानी को मोबाइल से घटना की सूचना दिया तथा पीड़िता  के पापा के घर में आने पर उसके द्वारा पीड़िता अपनी पुत्री से पूछताछ किया गया एवं अभियुक्त के विरुद्ध थाना शक्ति जाकर घटना की रिपोर्ट दर्ज कराया गया थाना शक्ति द्वारा अभियुक्त अनिल उर्फ किंदारू सिदार उम्र 18 वर्ष के विरुद्ध धारा 342 376 (1 )भारतीय दंड संहिता एवं लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम 2012 की धारा 6   के तहत अपराध पंजीबद्ध कर अभियुक्त को गिरफ्तार कर न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज कर विवेचना किया गया एवं अभियोग पत्र विशेष न्यायाधीश पॉक्सो एक्ट फास्ट ट्रेक कोर्ट सक्ती के न्यायाधीश यशवंत कुमार सारथी के न्यायालय में पेश किया गया न्यायालय द्वारा उभय पक्षों को अपने पक्ष रखने के लिए पर्याप्त समय दिया गया अभियोजन द्वारा अपने सभी महत्वपूर्ण साथियों को न्यायालय में पेश किया गया तथा अभियोजन पक्ष  द्वारा अभियुक्त के खिलाफ आरोपित अपराध प्रमाणित कर दिए जाने पर न्यायालय द्वारा विचारण उपरांत अभियुक्त अनिल सिदार को उक्त धाराओं के तहत दोष सिद्ध  पाया गया तथा लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम सन 2012 की धारा 6 के तहत अभियुक्त को 20 वर्ष की सश्रम कारावास एवं ₹10000 की जुर्माना भारतीय दंड संहिता की धारा 342 के तहत अभियुक्त को 6 महीने का सश्रम कारावास एवं ₹500 के अर्थदंड से दंडित किया तथा अर्थदंड की राशि न्यायालय में जमा नहीं करने पर 6 महीना एवं एक माह का अतिरिक्त सश्रम कारावास की सजा अभियुक्त को दिया गया है न्यायालय द्वारा दिए गए सभी सजाएं साथ-साथ चलेंगी अभियोजन की ओर से पैरवी शासकीय विशेष लोक अभियोजक पॉक्सो  राकेश महंत ने किया!

Advertisment

Advertisement

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING8 hours ago

दुनिया में उड़ने वाली बाइक जल्द हो सकती है लॉन्च, जानिए फ्लाइंग बाइक में क्या है खास….

आपने असल जिंदगी में या वीडियो में उड़ती कारों को देखा होगा लेकिन जापान ने इस हफ्ते एक डेमोंस्ट्रेशन के...

BREAKING8 hours ago

200 करोड़ रूपए की लागत से होगा सड़कों का डामरीकरण, लोक निर्माण विभाग तैयारी में जुटा…

रायपुर(चैनल इंडिया)। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश के परिपालन में लोक निर्माण विभाग द्वारा 200 करोड़ रूपए की लागत से...

BREAKING9 hours ago

तेज रफ्तार कार अनियंत्रित होकर सड़क किनारे जा पलटी, सब-इंस्पेक्टर समेत 2 लोगों की मौत…

समस्तीपुर. बिहार के समस्तीपुर में एक तेज रफ्तार कार अनियंत्रित होकर सड़क किनारे पानी से भरे गड्ढे में गिर गई....

BREAKING9 hours ago

वित्त विभाग में 65 पदों पर निकली भर्ती, जल्द करे आवेदन…

रायपुर(चैनल इंडिया)।छत्तीसगढ़ में वित्त विभाग के तहत संचालनालय राज्य ऑडिटर ने 65 पदों पर भर्ती के लिए विज्ञापन जारी किये...

BREAKING9 hours ago

2 बच्चों के शव को कब्र से निकाला गया बाहर, जानिए क्या है पूरा मामला….

भिलाई(चैनल इंडिया)| भिलाई में सांप के काटने से 2 बच्चों की मौत के बाद उनके शव को दफना दिया गया।...

Advertisement
Advertisement