खबरे अब तक

खबरे छत्तीसगढ़

सावधान : दूसरे लॉकडाउन की आहट…पढ़िए पूरी खबर



रायपुर। देश में एक बार फिर कोरोना ब्लास्ट जैसे हालात हैं..संक्रमण की दूसरी लहरी इतनी खतरनाक है कि…एक साल पहले जैसे हालात हैं..आंकड़े बताते हैं कि अगर जल्द ही हालात पर काबू नहीं पाया गया..तो आने वाले दिनों में स्थिति और विकराल हो जाएगी.. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की रिपोर्ट के मुताबिक छत्तीसगढ़, पंजाब, केरल, कर्नाटक और महाराष्ट्र में कोरोना के केस सबसे ज्यादा हैं..छत्तीसगढ़ की बात करें तो यहां मौत का औसत राष्ट्रीय औसत से भी ज्यादा है.. हालात को देखते हुए रायपुर समेत कई शहरों में प्रशासन ने सख्ती बढ़ा दी है.. ऐसे में सवाल है.. कोरोना के यू-टर्न लेने के पीछे कौन सी वजहें रहीं.. क्या हालात को कंट्रोल करने के लिए अब लॉकडाउन ही विकल्प है..?

बेकाबू कोरोना से देश में दहशत ! कई राज्यों में 1 साल पहले जैसे हालात ! फिर कोरोना विस्फोट दूसरे लॉकडाउन की आहट ! सावधान..!! कोरोना का ‘यू-टर्न’ जी हां..देश में एक बार फिर कोरोना संक्रमण की रफ्तार तेज हो गई है. जैसी पिछले साल पीक पर था वैसे ही हालत दिख रहा है. कोरोना के आंकड़े खुद ये गवाही दे रहे हैं. बीते दो दिनों से कोरोना के 62 हजार से अधिक केस आ रहे थे लेकिन बीते 24 घंटे में देश में 68 हजार से ज्यादा नए कोरोना केस सामने आए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के रिपोर्ट के मुताबिक 291 नागरिकों की जान भी गई.. आखिर ऐसी स्थिति फिर क्यों बनी.. आम जनता की लापरवाही है या जिम्मेदारों की..? कोरोना की नई लहर के सुपर स्प्रेडर कौन हैं.. क्या कोरोना विस्फोट को रोकने अब लॉकडाउन ही अंतिम उपाय है..सवाल कई है..जिनके जवाब आपको इन पांच तस्वीरों में कुछ हद तक मिल जाएगी.।

पहली बात हरिद्वार कुंभ ..जहां शाही स्नान में 50 लाख लोगों ने स्नान किया..हर दिन यहां 2.4 लाख लोग स्नान के लिए श्रद्धालु पहुंच रहे हैं.. दूसरी वृंदावन की होली की है..यहां भी लोगों की खुमारी ऐसी कि..किसी को कोरोना का खौफ नहीं.. वहीं बंगाल, असम, तमिलनाडु समेत पांच राज्यों की चुनावी रैलियों में उमड़ रही भीड़ में शामिल लोग भी कोरोना स्प्रेडर का काम कर रहे है..अहमदाबाद और रायपुर में आयोजित क्रिकेट मैच देखने उमड़ी भीड़ भी कोरोना संक्रमण बढ़ने का जिम्मेदार माना जा रहा है..

इसे भी पढ़े   रायपुर : अंतरजिला स्तरीय गौठान भ्रमण के तहत ली जा रही गौठानों की जानकारी

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की रिपोर्ट बताती है कि देश में कुल एक्टिव कोरोना मरीजों में से 80 फीसदी एक्टिव कोरोना मरीज इस समय केवल 5 राज्यों से ही आते हैं… ये पांच राज्य हैं छत्तीसगढ़, पंजाब, केरल, कर्नाटक और महाराष्ट्र..अगर छत्तीसगढ़ की बात करें तो.. आंकड़े डराने लगे हैं.. 1 मार्च को राज्य में 2880 एक्टिव केस थे..जो 29 मार्च को एक्टिव मरीजों की संख्या 20 हजार 181 तक गई है.. मार्च के पहले हफ्ते में पॉजिटिविटी रेट 0.99 फीसदी थी..जो चौथे हफ्ते में बढ़कर 6% हो गया.. वहीं मौत के आंकड़ों में भी तेजी से इजाफा हुआ है.. रायपुर और दुर्ग में संक्रमण के मामले सबसे ज्यादा है..लिहाजा जशपुर, सरगुजा, सूरजपुर के बाद अब रायपुर में भी नाइट कर्फ्यू लगाने का फैसला लिया गया है..जैसे-जैसे संक्रमण बढ़ रहा है सियासत भी तेज हो चली है..

इसे भी पढ़े   नगर पंचायत पंडरिया की सीमा सील, प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित

बहरहाल कोरोना ने जिस तरह यू टर्न लिया है..उससे केंद्र समेत राज्य सरकारों की टेंशन जरूर बढ़ा दी है.. हालांकि कोरोना संक्रमण से बचने का एक ही मंत्र है..कि जब तक वैक्सीनेशन नहीं हो जाता.. मास्क लगाएं..और भीड़भाड़ वाली जगहों में सामाजिक दूरी का पालन करें.।

इसे भी पढ़े   100 दिन से जारी शाहीनबाग का धरना पुलिस ने कराया खत्म, उखाड़े प्रदर्शनकारियों के तंबू