लदाख में शहीद हुए छत्तीसगढ़ के सपूत मनीष नेताम

लदाख में शहीद हुए छत्तीसगढ़ के सपूत मनीष नेताम

छत्तीसगढ़ डेस्क 

धमतरी। देश के लेह लद्दाख सीमा पर ड्यूटी कर रहे ग्राम खरेंगा निवासी सेना के जवान मनीष नेताम शहीद हो गए। घटना की जानकारी स्वजन को मिलते ही गांव में शोक की लहर छा गई है। दो दिन बाद उनका शव धमतरी लाया जाएगा। वहीं घर आने के बाद गांव में राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। बता दें स्वजनों को मनीष के शव आने का इंतजार है। वह मराठा रेजिमेंट में पदस्थ होकर ड्यूटी कर रहा था।

धमतरी जिला मुख्यालय से करीब 10 किलोमीटर की दूरी पर ग्राम पंचायत खरेंगा है। यहां के मनीष नेताम पुत्र राजेन्द्र नेताम 24 वर्ष पिछले तीन सालों से सेना में भर्ती होकर देश सेवा कर रहे हैं। वर्तमान में वह देश के लेह-लद्दाख सीमा पर ड्यूटी कर रहे थे। 28 दिसंबर की सुबह लेह-लद्दाख में ड्यूटी के दौरान उन्हें अचानक सांस में तकलीफ हुआ। अन्य जवानों ने उन्हें उपचार के लिए अस्पताल पहुंचाया, जहां डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। जवान मनीष नेताम के बलिदान होने की जानकारी सेना के माध्यम से घर में दी गई। इस खबर के मिलते ही गांव में शोक की लहर छा गई है। गांव के सुभाष साहू और हिरेन्द्र साहू ने बताया कि शहीद का शव 30 दिसंबर को गांव में पहुंच जाएगा, इसके बाद राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। शहीद के माता-पिता को अपने इकलौते बेटे के शव आने का इंतजार है।