जानिए कैसे होते शनि महाराज प्रसन्न, भर देंगे धन दौलत से झोली

जानिए कैसे होते शनि महाराज प्रसन्न,  भर देंगे धन दौलत से झोली

धर्म डेस्क 

हिंदू धर्म में शनिवार का दिन शनि देव की पूजा को समर्पित है. शनिवार के दिन शनि देव की पूजा करने से वे शीघ्र प्रसन्न होते हैं और उनकी झोलियां भर देती हैं. शनि देव भगवान सूर्य देव के पुत्र हैं और प्रसन्न होने पर वे भक्तों के कष्टों को दूर करते हैं. ज्योतिष शास्त्र में नवग्रहों में सबसे शक्तिशाली ग्रह शनि को माना गया है. 

शनिवार के दिन ज्योतिष शास्त्र में वैसे तो कई उपायों के बारे में बताया गया है, लेकिन सही विधि से अगर शनि चालीसा का पाठ किया जाए, तो वे जल्द ही मेहरबान होते हैं. धार्मिक ग्रंथों के अनुसार राजा दशरथ ने भी शनिदेव की कृपा पाने के लिए शनि चालीसा का पाठ किया था. आइए जानें शनि चालीसा पाठ की विधि. 

शनि चालीसा पाठ की सही विधि

- ज्योतिष शास्त्र के अनुसार घर में सुख-समृद्धि पाने के लिए शनि चालीसा का पाठ विधिपूर्वक किया जाता है. शास्त्रों में रोजाना शनि चालीसा का पाठ करना उत्तम माना गया है. अगर  संभव हो तो शनिवार के दिन शनि मंदिर या पीपल के पेड़ के नीचे बैठकर शनि चालीसा का पाठ करें. 

- धार्मिक ग्रंथों के अनुसार शनिवार के दिन घर के पूजा स्थल पर सरसों के तेल का दीया जलाएं और शनि देव का ध्यान करें. इसके बाद मन को शांत करके शनि चालीसा पाठ करें. कहते हैं कि शनि चालीसा का पाठ करने से भक्तों के अशुभ प्रभावों से मुक्ति मिलती है. साथ ही, शनि दोष से मुक्ति मिलती है.