लाल बहादुर शास्‍त्री को पड़ा वो झन्‍नाटेदार थप्‍पड़ जिसने उन्‍हें हमेशा के लिए बदल दिया – Channelindia News
Connect with us

BREAKING

लाल बहादुर शास्‍त्री को पड़ा वो झन्‍नाटेदार थप्‍पड़ जिसने उन्‍हें हमेशा के लिए बदल दिया

Published

on

लाल बहादुर तब ठीक से बोल भी नहीं पाते थे। सिर से पिता का साया उठ चुका था। मां बच्‍चों को लेकर अपने पिता के यहां चली आईं। पढ़ाई-लिखाई के लिए दूसरे गांव के स्‍कूल में दाखिला करा दिया गया। शास्‍त्री अपने कुछ दोस्‍तों के साथ आते-जाते थे। रास्‍ते में एक बाग पड़ता था। उस वक्‍त उनकी उम्र 5-6 साल रही होगी। एक दिन बगीचे की रखवाली करने वाला नदारद था। लड़कों को लगा इससे अच्‍छा मौका नहीं मिलेगा। सब लपक कर पेड़ों पर चढ़ गए। कुछ फल तोड़े मगर धमाचौकड़ी मचाने में ज्‍यादा ध्‍यान रहा। इतने में माली आ गया। बाकी सब तो भाग गए मगर अबोध शास्‍त्री वहीं खड़े रहे। उनके हाथ में कोई फल नहीं, एक गुलाब का फूल था जो उन्‍होंने उसी बाग से तोड़ा था।

Lal Bahadur Shastri death anniversary: लाल बहादुर शास्‍त्री के पिता शारदा प्रसाद एक अध्‍यापक थे। शास्‍त्री की उम्र बमुश्किल डेढ़ साल रही होगी जब पिता का प्‍लेग के चलते निधन हो गया।

जब झन्‍नाटेदार तमाचा पड़ने पर लाल बहादुर शास्‍त्री ने कहा, मेरा बाप मर गया है फिर भी मुझे मारते हो

लाल बहादुर तब ठीक से बोल भी नहीं पाते थे। सिर से पिता का साया उठ चुका था। मां बच्‍चों को लेकर अपने पिता के यहां चली आईं। पढ़ाई-लिखाई के लिए दूसरे गांव के स्‍कूल में दाखिला करा दिया गया। शास्‍त्री अपने कुछ दोस्‍तों के साथ आते-जाते थे। रास्‍ते में एक बाग पड़ता था। उस वक्‍त उनकी उम्र 5-6 साल रही होगी। एक दिन बगीचे की रखवाली करने वाला नदारद था। लड़कों को लगा इससे अच्‍छा मौका नहीं मिलेगा। सब लपक कर पेड़ों पर चढ़ गए। कुछ फल तोड़े मगर धमाचौकड़ी मचाने में ज्‍यादा ध्‍यान रहा। इतने में माली आ गया। बाकी सब तो भाग गए मगर अबोध शास्‍त्री वहीं खड़े रहे। उनके हाथ में कोई फल नहीं, एक गुलाब का फूल था जो उन्‍होंने उसी बाग से तोड़ा था।

इसे भी पढ़े   सिडनी टेस्ट: भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच तीसरा टेस्ट मैच, देखिए LIVE अपडेट्स

एक फूल तोड़ने की सजा… दो तमाचे
एक फूल तोड़ने की सजा... दो तमाचे

माली ने बाग की हालत देखी और फिर नन्‍हे शास्‍त्री को। सबका गुस्‍सा उसी पर उतरा। एक झन्‍नाटेदार तमाचा उस बच्‍चे के गाल पर पड़ा तो वह रोने लगा। मासूमियत में शास्‍त्री बोले, “तुम नहीं जानते, मेरा बाप मर गया है फिर भी तुम मुझे मारते हो। दया नहीं करते।” शास्‍त्री को लगा था कि पिता के न होने से लोगों की सहानुभूति मिलेगी, लोग प्‍यार करेंगे। केवल एक फूल तोड़ने की छोटी की गलती के लिए उसे माफ कर दिया जाएगा, मगर ऐसा हुआ नहीं। जोरदार तमाचे ने उस बच्‍चे की सारी आशाओं को खत्‍म कर दिया था। वह वहीं खड़ा सुबकता रहा। माली ने देखा कि ये बच्‍चा अब भी नहीं भागा, न ही उसकी आंखों में डर है। उसने एक तमाचा और रसीद कर दिया और जो कहा, वह शास्‍त्री के लिए जिंदगी भर की सीख बन गया।

इसे भी पढ़े   वैज्ञानिकों इमैनुएल कारपेंटर और जेनिफर डोडना को रसायन का नोबेल पुरस्कार मिला

…और उस दिन से सबकुछ बदल गया
...और उस दिन से सबकुछ बदल गया

माली ने कहा था, “जब तुम्‍हारा बाप नहीं है, तब तो तुम्‍हें ऐसी गलती नहीं करनी चाहिए। और सावधान रहना चाहिए। तुम्‍हें तो नेकचलन और ईमानदार बनना चाहिए।” लाल बहादुर शास्‍त्री के मन में उस दिन यह बात बैठ गई कि जिनके पिता नहीं होते, उन्‍हें सावधान रहना चाहिए। ऐसे निरीह बच्‍चों को किसी और से प्‍यार की आशा नहीं रखनी चाहिए। कुछ पाना हो तो उसके लायक बनना चाहिए और उसके लिए खूब और लगातार मेहनत करनी चाहिए।

इसे भी पढ़े   रायपुर में देशव्यापी किसान आंदोलन के लिए एकजुटता प्रदर्शन, जेएनयू के छात्र भी हुए शामिल

जब गंगा तैरकर अपने गांव पहुंचे शास्‍त्री
जब गंगा तैरकर अपने गांव पहुंचे शास्‍त्री

शास्‍त्रीजी के गंगा में तैर कर जाने का किस्‍सा हमने किताबों में खूब पढ़ा है। हुआ यूं था कि उन्‍हें बनारस से गंगा पार कर अपने घर रामनगर जाना था मगर किराये के पैसे नहीं थे। उस किशोर उम्र में शास्‍त्री ने गंगा में छलांग लगा दी और अपने गांव पहुंच गए। बाद में शास्‍त्रीजी ने इस प्रसंग की चर्चा करते हुए लिखा था, “अंधेरा हो चला था। मुझे घर जाना था और पास में जाने के लिए पैसे नहीं थे। अत: मैंने तैरकर ही घर पहुंचने का निश्‍चय किया और गंगा में कूद पड़ा। सभी लोग आश्‍चर्यचकित रह गए। नौका पर सवार लोग कहने लगे, भला इस लड़के को देखो… अकेले ही तैर रहा है।”

नैशनल बुक ट्रस्‍ट की ओर से प्रकाशित डॉ. राष्ट्रबंधु की पुस्‍तक ‘लाल बहादुर शास्‍त्री’ से साभार

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

R.O. No. 11359/53

CG Trending News

channel india7 hours ago

4 सूत्री मांगों को लेकर शिवसेना के भारतीय कामगार ऑटो यूनियन ने कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

रायपुर। शिवसेना की कामगार इकाई भारतीय कामगार सेना के ऑटो यूनियन के द्वारा बुधवार को 4 सूत्रीय मांगों को लेकर...

https://channelindia.news/breaking-twitter-banned-over-550-accounts-after-tractor-rally-violence-in-delhi/ https://channelindia.news/breaking-twitter-banned-over-550-accounts-after-tractor-rally-violence-in-delhi/
BREAKING9 hours ago

BREAKING: ट्रैक्टर रैली हिंसा के बाद ट्विटर ने 550 से अधिक अकाउंट्स किये बैन

नई दिल्ली। BREAKING: Twitter banned over 550 accounts after tractor rally violence in Delhi: किसानों के गणतंत्र दिवस ट्रैक्टर रैली...

balodabazar c.g.9 hours ago

तीन दिवसीय जनपद स्तरीय गोधन न्याय योजना की समीक्षा शुरू, कलेक्टर ने पहले दिन सिमगा एवं भाटापारा के गौठानो की समीक्षा

बलौदाबाजार| जिला पंचायत बलौदाबाजार के सभागार मे आज से तीन दिवसीय जनपद स्तरीय गोधन न्याय योजना की समीक्षा बैठक की...

channel india9 hours ago

राज्य में जशपुर कलेक्ट्रेट को लोक प्रशासन गतिविधियों के लिए पहला आईएसओ 9001-2015 प्रमाण पत्र प्रदान किया गया

जशपुर| गणतंत्र दिवस के दिन जशपुर जिला कलेक्ट्रेट ने राज्य में सार्वजनिक प्रशासनिक सेवाएं प्रदान करने के लिए पहला आईएसओ...

rape in balia, up rape in balia, up
BREAKING10 hours ago

यूपी: नाबालिग हिन्दू लड़की से रेप, अश्लील वीडियो बना कर धर्म परिवर्तन की साजिश

बलिया। उत्तर प्रदेश के बलिया जिले में एक नाबालिग के साथ रेप करने, उसका अश्लील वीडियो बनाने और शादी के...

खबरे अब तक

Advertisement
Advertisement