राष्ट्रध्वज का अपमान है तिरंगे और अशोक चक्र वाला केक काटना? जानें- हाईकोर्ट ने दिया क्या फैसला – Channelindia News
Connect with us

देश-विदेश

राष्ट्रध्वज का अपमान है तिरंगे और अशोक चक्र वाला केक काटना? जानें- हाईकोर्ट ने दिया क्या फैसला

Published

on


मद्रास हाईकोर्ट ने सोमवार को कहा कि तिरंगे और अशोक चक्र की डिज़ाइन वाले केक काटना ना तो असंगत है और ना ही राष्ट्रीय सम्मान अधिनियम, 1971 के तहत राष्ट्रीय ध्वज का अपमान। अदालत डी सेंथिलकुमार द्वारा दायर एक याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें आरोप लगाया गया था कि इस तरह का केक काटना अपराध है।

उन्होंने याचिका में आरोप लगाया था कि राष्ट्रीय सम्मान अधिनियम, 1971 की धारा 2 के तहत यह अपराध है। उन्होंने भारत के संविधान में 3 साल तक की कैद या जुर्माना या फिर दोनों का प्रावधान होने की बात कही थी।

सेंथिलकुमार ने वर्ष 2013 में क्रिसमस के मौके पर तिरंगे वाले 6×5 फीट के केक काटने और 2,500 से अधिक मेहमानों के बीच इसके विचरण के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी। इस कार्यक्रम में कोयम्बटूर के जिला कलेक्टर, पुलिस उपायुक्त और विभिन्न अन्य धार्मिक नेताओं और गैर सरकारी संगठनों के सदस्योंने भी हिस्सा लिया था।

न्यायमूर्ति एन आनंद वेंकटेश ने सोमवार को अपने फैसले में आपराधिक कार्यवाही को खत्म करते हुए कहा, “इसमें कोई संदेह नहीं है कि भारत जैसे लोकतंत्र में राष्ट्रवाद बहुत महत्वपूर्ण है। लेकिन, उग्र और मतलब से ज्यादा पालन करना हमारे देश की समृद्धि को उसके अतीत के गौरव से दूर कर देता है… एक देशभक्त सिर्फ वही नहीं है जो केवल ध्वज, जो कि राष्ट्रीय गौरव का प्रतीक है, उठाता है, इसे अपनी आस्तीन पर पहनता है। राष्ट्रीय गौरव का प्रतीक देशभक्ति का पर्यायवाची नहीं है, ठीक उसी तरह जैसे केक काटना कोई असंगत नहीं है।”

अदालत ने राष्ट्रवाद पर अपनी बात पर जोर देने के लिए टैगोर का भी हवाला दिया: “देशभक्ति हमारा अंतिम आध्यात्मिक आश्रय नहीं हो सकती; मेरी शरण मानवता है। मैं हीरे की कीमत के लिए ग्लास नहीं खरीदूंगा और मैं कभी भी मानवता के ऊपर देशभक्ति की जीत नहीं होने दूंगा।”

अदालत ने कहा कि 2013 के इस समारोह में जो भी लोग शामिल हुए थे, उनमें से किसी ने भी किसी तरह से राष्ट्रवाद का अपमान करने की कोशिश नहीं की। कोर्ट ने कहा कि कई लोग तिरंगे को संभालने में असहज हो जाएंगे यदि ‘अपमान’ को एक व्यापक परिभाषा दी जाए।

आदेश में कहा गया, “राष्ट्रीय ध्वज समारोह के दौरान हमारे राष्ट्रीय गौरव के प्रतीक के रूप में दिया जाता है। एक बार प्रतिभागियों के मन में इस तरह की भावना पैदा हो जाती है, जिस उद्देश्य के लिए राष्ट्रीय ध्वज दिया गया था या उपयोग किया जाएगा…। फ्लैग कोड ध्वज की गरिमा के अनुरूप, निजी रूप से झंडे को नष्ट करने के लिए एक तंत्र प्रदान करता है, और एक जिम्मेदार नागरिक के रूप में इसका पालन किया जाना चाहिए। इस प्रक्रिया से सभी वाकिफ नहीं होंगे।”

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING14 mins ago

यहाँ दवाइयों से नहीं बल्कि शरीर में आग लगाकर होता है बीमारियों का इलाज…पढ़ें पूरी खबर…

अब तक तो आपने दवाइयों या जड़ी-बूटियों से ही बीमारियों का इलाज करते डॉक्टरों को देखा होगा, लेकिन क्या कभी...

BREAKING41 mins ago

अब यहां यातायात नियम तोड़ा तो जब्त होगी गाड़ियां

इंदौर शहर को ट्रैफिक में नंबर वन बनाने के लिए लगातार प्रयास कर रही है। इसको लेकर पुलिस ने शहर...

BREAKING1 hour ago

प्रदेश के इन इलाकों में भारी बारिश के आसार, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

रायपुर(चैनल इंडिया)। छत्तीसगढ़ के कई जिलों में मूसलाधार बारिश का दौर जारी है। वहीं मौसम विभाग ने आज प्रदेश में...

BREAKING2 hours ago

साइंस फिक्शन : 2041 तक बदल जाएगी पूरी दुनिया, जानिए क्या होगा धरती का हाल?

20 साल तक सोए रह जाएं और फिर उठें तो दुनिया कैसी दिखेगी? यह बात आपको किसी साइंस फिक्शन मूवी...

 सक्ती2 hours ago

छत्तीसगढ़ को नहीं बनने देंगे अडानीगढ़ – अर्जुन राठौर

सक्ती(चैनल इंडिया)|  जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे विधान  सभा सक्ती के पुर्व प्रभारी  ने कहा कि जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे के...

Advertisement
Advertisement