नवनिर्मित 132/33 केव्ही उपकेन्द्र इन्दागांव के प्रारंभ होने से लो-वोल्टेज से मिलेगी मुक्ति

नवनिर्मित 132/33 केव्ही उपकेन्द्र इन्दागांव के प्रारंभ होने से लो-वोल्टेज से मिलेगी मुक्ति

छत्तीसगढ़ डेस्क 

गरियाबंद। जिले के अमलीपदर व देवभोग अंचल अंतर्गत उपभोक्ताओं को लो-वोल्टेज की शिकायत रहती थी। जिसके कारण लोगों को असुविधा का सामना करना पड़ता था। ग्रीष्मकाल में यह समस्या और भी गंभीर हो जाती थी।

अमलीपदर एवं देवभोग क्षेत्र के 176 गांव होंगे लाभान्वित 

जिसके निराकरण के लिए क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों एवं ग्रामीणजनों के लगातार मांग व प्रयास से नवनिर्मित 132/33 केव्ही उपकेन्द्र इंदागांव के निर्माण पश्चात 11 जनवरी  को ऊर्जीकृत कर दिया गया है। छत्तीसगढ़ स्टेट पाॅवर डिस्ट्रीब्यूसन कंपनी लिमिटेड गरियाबंद के कार्यपालन अभियंता से मिली जानकारी अनुसार 132/33 केव्ही इंदागांव विद्युत उपकेन्द्र की स्थापना के लिए 68 किमी 33 केव्ही लाईन का विस्तार कार्य एवं 233 नग टॉवर लगाये गये हैं। जिसकी कुल लागत 85 करोड़ (अनुमानित) है। 132/33 केव्ही उपकेन्द्र इन्दागांव के निर्माण से अमलीपदर एवं देवभोग क्षेत्र के 176 ग्रामों के 43058 उपभोक्ता लाभान्वित होंगे।

इंदागांव उपकेन्द्र के निर्माण से अमलीपदर एवं देवभोग क्षेत्र के लोगों को लो-वोल्टेज की समस्या से निजात मिलेगी। विद्युत व्यवधान होने की स्थिति में सुधार कार्य शीघ्र किये जा सकेंगे एवं विद्युत व्यवस्था पुनर्स्थापित करने में सहायता मिलेगी। साथ ही निर्बाध व निरंतर विद्युत प्रदाय करने में भी आसानी होगी। साथ ही वोल्टेज सुधार होने से नये व्यवसायिक एवं औद्योगिक इकाईयों के खुलने की संभावना भी बलवती होगी। इससे नये रोजगार के अवसर भी उपलब्ध होंगे।