खबरे अब तक

देश-विदेश

महंगी पड़ी मिर्ची खाने की शर्त, गले में हो गया 1 इंच का छेद….



शर्त के मुताबिक उसे मिर्ची भरा बर्गर खाना था।
बर्गर की टिक्की भूत झोलकिया मिर्च से बनी थी।
जैसे ही उसने पूरा बर्गर खाई उसकी तबीयत खराब होने लगी।

chili

नई दिल्ली। इस दुनिया में बहुत से लोग खाने- पीने का शौक रखते है। कई लोग हंसी मजाक में खाने पीने की शर्त लगा लेते है। कुछ लोग इस चैलेंज को पूरा भी कर देते है। कई बार यह चैलेंज उनके लिए काफी महंगा साबित होता है। शर्त में कई बार इंसान को इसकी कीमत चुकानी पड़ती है। इतना ही नहीं कई बार चैलेंज में इंसान की जान भी चली जाती है। अमेरिका में एक 47 साल के शख्स ने मिर्ची खाने की शर्त लगाई। अपनी शर्त पूरी करने के लिए उसे मिर्ची भरा बर्गर खाना। लेकिन यह मिर्ची का खेल उसको काफी महंगा पड़ा। इसकी फूड पाइप में छेद हो गया।

इसे भी पढ़े   प्रेम प्रसंग के विरोध से थी नाराज़....बेटी... प्रेमी संग मिलकर बाप को ही उतार दिया मौत के घाट

मिर्ची भरा बर्गर
एक रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिका के एक 47 साल के शख्स ने भी मिर्ची खाने की शर्त लगा ली। शर्त के मुताबिक उसे मिर्ची भरा बर्गर खाना था। बर्गर की टिक्की भूत झोलकिया मिर्च से बनी थी। जैसे ही उसने पूरा बर्गर खाई उसकी तबीयत खराब होने लगी। थोड़ी ही देर में उसे उल्टी होने लगी और बैचेन होने लगा। इसके साथ ही उसके पेट में तेज से दर्द होने लगा। फिर लगातार उल्टी होने लगी।

इसे भी पढ़े   बड़ी खबर : गिरफ्तार हुए राहुल गाँधी...

गले में हो गया छेद
उल्टी के कारण उसके गले में इतना तेज प्रेशन पड़ा कि गले में छेद हो गया। ज्यादा तबीयत खराब हो जाने के कारण उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया। डॉक्टरों ने बताया कि उसे गले में करीब ढाई सेंटीमीटर का छेद हो गया। हालांकि डॉक्टर ने उसकी जान तो बचा ली। दो सप्ताह के इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी दी गई।

इसे भी पढ़े   21वीं सदी का भारत अब टुकड़ों में नहीं बल्कि होलिस्टिक तरीके से सोचता: पीएम मोदी

क्या है भूतिया झोलकिया
बहुत कम लोग इसके बारे में जानते है। भूत झोलकिया नाम की मिर्च दुनिया की सबसे तीखी मिर्च है। इसे घोस्ट चिली के नाम से जाना जाता है। इसे दुनिया का सबसे ज्वलनशील मिर्च माना जाता है। इसी की वजह से इसे 2007 में गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में दर्ज किया गया। यह मिर्ची इतनी तेज होती है कि इसका खाने में इस्तेमाल नहीं किया जाता है। इसको इस्तेमाल केवल हैंड ग्रेनेड में होता है।