खबरे अब तक

देश-विदेश

भीड़भाड़ वाले इलाकों में मर्जी के बिना होगा कोरोना टेस्ट……



लगातार बढ़ते जा रहे कोरोना वायरस के मामलों के मद्देनजर अब ग्रेटर मुंबई नगर निगम ने आदेश दिया है कि भीड़-भाड़ वाले इलाकों में मर्जी के बिना भी किसी का भी कोविड-19 टेस्ट किया जा सकता है। आदेश के मुताबिक, मॉल, रेलवे स्टेशन, बस डिपो, बाजार, पर्यटन स्थलों और सरकारी दफ्तरों में किसी का भी रैपिड ऐंटिजन टेस्ट किया जा सकता है।

इसे भी पढ़े   जम्मू में फंसे पांच हजार मजदूर जल्द लौटेंगे छ्त्तीसगढ़, पूर्व CM रमन ने केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल से अतिरिक्त ट्रेन उपलब्ध कराने की मांग

यह जांच भीड़ वाले इलाकों में मौजूद लोगों की मर्जी के बिना किया जा सकता है। अगर कोई जांच कराने से मना करता है तो इसे महामारी ऐक्ट, 1897 के अंतर्गत अपराध माना जाएगा।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जिन रेलवे स्टेशनों पर जांच की जाएगी उनमें छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस, मुंबई सेंट्रल, दादर पश्चिमी और सेंट्रल, बांद्रा टर्मिनल, अंधेरी, बोरिवली और लोकमान्य तिलक टर्मिनस, कुर्ला शामिल हैं।

इसे भी पढ़े   अमेरिकी राष्ट्रपति Donald Trump के खिलाफ साजिश... लिफाफे में आया जानलेवा 'रिसिन'

मॉल में हर दिन 400 टेस्ट किए जाने का लक्ष्य है तो वहीं रेलवे स्टेशनों पर एक दिन में 1 हजार टेस्ट किए जाने हैं।

इसे भी पढ़े   मायानगरी मुंबई में बत्ती गुल, HC में इंटरनेट बंद, लोकल ट्रेनों के पहिए भी थमे

मॉल में टेस्ट का खर्चा वही देंगे जिनका टेस्ट किया जा रहा है। इसके अलावा बाकी जगहों पर किए जाने वाले टेस्ट का खर्चा नगर निगम उठाएगा।

बता दें कि इससे पहले सरकार ने आदेश दिया था कि सभी ऑडिटोरियम, थिएटर और दफ्तरों को 50 प्रतिशत क्षमता के साथ ही संचालित किया जाए।