ब्रह्मांड का 85% हिस्सा माना जाता रहा डार्क मैटर असल में है ही नहीं? नई स्टडी में दावा, तारों की अजीब हरकतों के पीछे ग्रैविटी का असर – Channelindia News
Connect with us

BREAKING

ब्रह्मांड का 85% हिस्सा माना जाता रहा डार्क मैटर असल में है ही नहीं? नई स्टडी में दावा, तारों की अजीब हरकतों के पीछे ग्रैविटी का असर

Published

on

वॉशिंगटन
ब्रह्मांड को लेकर ऐसे कई सवाल हैं जिनके जवाब आज भी इंसान ढूंढ रहा है। जिन बातों का सबूत नहीं मिल पाता उन पर कोई न कोई थिअरी होती है लेकिन विज्ञान जगत की खूबसूरती यही है कि हर नई खोज किसी नई संभावना की ओर ले जाती है और पहले की थिअरी पुरानी हो जाती है। ऐसा ही कुछ होता दिख रहा है ‘डार्क मैटर’ के साथ। अभी तक माना जा रहा था कि आकाशगंगाओं के अंदर सितारों के अजीब व्यवहार के पीछे वजह का गुरुत्वाकर्षण होती है। हालांकि, अंतरराष्ट्रीय वैज्ञानिकों की एक टीम के मुताबिक ऐसा कुछ है ही नहीं।

इसे भी पढ़े   BIG BREAKING: शराब दुकानें, होटल- बार और क्लब को लेकर सरकार का नया आदेश पढ़िए पूरी खबर!!

क्या होता है डार्क मैटर?
डार्क मैटर ऐसे अज्ञात तत्वों को कहते हैं जो आम मैटर से सिर्फ गुरुत्वाकर्षण के जरिए इंटरैक्ट करता है। यह ना ही रोशनी का उत्सर्जन करता है, ने रिफलेक्ट करता है और न उसे सोखता है। इसे कभी सीधे तौर पर डिकेक्ट भी नहीं किया जा सका है। अब रिसर्चर्स को एक एक्सटर्नल फील्ड इफेक्ट (EFE) मिला है जो कमजोर गुरुत्वाकर्षण की तरंग होती है। इसे 150 से ज्यादा आकाशगंगाओं के सितारों की ऑर्बिटल स्पीड में ऑब्जर्व किया गया है।

कुछ और है वजह
स्टडी के मुताबिक यह डार्क मैटर की थिअरी के साथ मेल नहीं खाता बल्कि Modified Newtonian Dynamics (MOND) या मॉडिफाइड ग्रैविटी से जरूर मिलता है। इस थिअरी के मुताबिक किसी खगोलीय ऑब्जेक्ट के अंदर होने वाला मोशन सिर्फ उसे द्रव्यमान पर निर्भर नहीं करता बल्कि दूसरे ऑब्जेक्ट्स के गुरुत्वाकर्षण पर भी करता है। इसे एक्सटर्नल फील्ड इफेक्ट कहते हैं।

इसे भी पढ़े   'शहादत बेकार ना हो...' गाजीपुर बॉर्डर पर एक किसान ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

डार्क मैटर का सबूत नहीं
डार्क मैटर या मिसिंग मैटर का कॉन्सेप्ट 1933 में आया था जब यह खोज की गई थी कि कोमा क्लस्टर की गैलेक्सियों में सभी सितारों के कुल द्रव्यमान के सिर्फ एक प्रतिशत का इस्तेमाल पूरे क्लस्टर के गुरुत्वाकर्षण से बाहर निकलने से रोकने के लिए किया जा रहा था। इसके दशकों बाद 1970 में ऐस्ट्रोनॉमर वेरा रूबिन और केंट फोर्ड ने सितारों की अजीब कक्षा खोजी।

इसे भी पढ़े   बिहार में कल से खुल रहे स्कूल, 9वीं से 12 वीं तक के छात्रों को दो मास्क फ्री देगी नीतीश सरकार

विज्ञान जगत ने इसके बाद डार्क मैटर के द्रव्यमान को इस अजीब व्यवहार का जिम्मदार माना। एक्सपर्ट्स का मानना है कि ब्रह्मांड में 85% हिस्सा डार्क मैटर ही है लेकिन इसका कोई सबूत कभी नहीं दिया जा सका है। हालांकि, स्टडी करने वाली टीम का कहना है कि ऐसे व्यवहार के लिए किसी अनदेखी चीज को नहीं बल्कि ग्रैविटी में होने वाले बदलाव को जिम्मेदार माना जाना चाहिए।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

R.O. No. 11359/53

CG Trending News

Chhattisgarh: स्कूल के क्लास रूम में टीचर ने डरा धमकाकर किया नाबालिग छात्रा के साथ बलात्कार Chhattisgarh: स्कूल के क्लास रूम में टीचर ने डरा धमकाकर किया नाबालिग छात्रा के साथ बलात्कार
channel india14 hours ago

Chhattisgarh: स्कूल के क्लास रूम में कुकर्मी मास्टर ने किया नाबालिग छात्रा के साथ रेप

राजनांदगांव। Rajnandgaon Rape Case Chhattisgarh: यह घटना राजनांदगांव जिले के घुमका ब्लाक के चंवरढाल की है। जहां एक शिक्षक ने...

bijapur c.g.15 hours ago

छत्तीसगढ़: सरपंच सहित 37 भाजपा नेताओं ने थामा कांग्रेस का दामन, सांसद व विधायक भी थे मौजूद

बिजापुर। बस्तर विकास प्राधिकरण उपाध्यक्ष व क्षेत्रीय विधायक विक्रम की लोकप्रियता लगातार उनकी स्क्रीयता व लोककल्याणकारी कार्यो को देखते हुए...

channel india16 hours ago

जशपुर समाचार: चैनल इंडिया की बेबाक खबरों से बेहद प्रभावित हुए वरिष्ठ कांग्रेसी नेता एल्डरमैन रामचरण अग्रवाल, भेंट किया कंबल

पत्थलगांव। चैनल इंडिया तेज न्यूज़ से खुश होकर के पत्थर गांव के पार्षद वरिष्ठ कांग्रेसी नेता एल्डरमैन रामचरण अग्रवाल द्वारा...

channel india16 hours ago

आस्था समिति ने सिल्हाटी में मनाया राष्ट्रीय बालिका दिवस

कवर्धा। राष्ट्रीय बालिका दिवस के सुअवसर पर चाइल्ड लाइन कबीरधाम द्वारा मानसिक स्वास्थ्य मनोसामाजिक समर्थन विषय पर किशोरी बालिकाओं को...

channel india17 hours ago

छत्तीसगढ़: शिवसेना ने केंद्रीय रेल मंत्री से की लोकल ट्रेन चालू कराने की मांग, सौंपा ज्ञापन

हथबंद। हथबंद रेलवे स्टेशन से क्षेत्र के हजारों की संख्या में लोग लोकल ट्रेन से आवागमन करते थे। यात्रीयो में...

खबरे अब तक

Advertisement
Advertisement