बुजुर्गों की जगह पहले युवा वयस्कों को कोरोना वैक्सीन क्यों देने जा रहा इंडोनेशिया? – Channelindia News
Connect with us

BREAKING

बुजुर्गों की जगह पहले युवा वयस्कों को कोरोना वैक्सीन क्यों देने जा रहा इंडोनेशिया?

Published

on

जकार्ता
इंडोनेशिया में कोविड-19 वैक्सीन देनी की तैयारी शुरू हो चुकी है लेकिन उसका प्लान दूसरे देशों से अलग है। ज्यादातर देशों में वायरस की चपेट में आने के ज्यादा रिस्क वाले बुजुर्गों को वैक्सीन दी जा रही है। हालांकि, इंडोनेशिया ने फैसला किया है कि काम करने वाले वयस्कों को वैक्सीन दी जाएगी। इसके जरिए तेजी से हर्ड इम्यूनिटी हासिल करने की कोशिश की जाएगी और साथ ही अर्थव्यवस्था को भी पटरी पर लाया जाएगा। इंडोनेशिया के इस कदम पर पूरी दुनिया की निगाहें भी टिकी हैं।

बुजुर्गों पर वैक्सीन के असर का डेटा नहीं
अमेरिका और ब्रिटेन समेत कई देश वैक्सीन देना शुरू कर चुके हैं। यहां बुजुर्गों को वैक्सीन पहले दी जा रही है जिन्हें सांस संबंधी बीमारी होने का खतरा ज्यादा है। इंडोनेशिया में चीन की Sinovac Biotech की वैक्सीन देने की तैयारी की जा रही है। उसका कहना है कि अभी बुजुर्गों पर वैक्सीन के असर का पर्याप्त डेटा नहीं मिला है। देश में क्लिनिकल ट्रायल 18-59 साल के लोगों पर जारी है। अभी बुजुर्गों को वैक्सीन देने के बारे में देश के ड्रग रेग्युलेटर फैसला करेंगे। ब्रिटेन और अमेरिका में Pfizer की वैक्सीन दी जा रही है जो सभी उम्र के लोगों पर असरदार है।


कितना होगा असर?

इंडोनेशिया ने चीनी कंपनी के साथ 12.5 करोड़ खुराकों की डील की है जिसमें से 30 लाख खुराकें पहुंचाई जा चुकी हैं। Pfizer की वैक्सीन देश में तीसरी तिमाही में पहुंच सकती है जबकि ऑक्सफर्ड की वैक्सीन दूसरी तिमाही में। ऑस्ट्रेलियन नैशनल यूनिवर्सिटी के प्रफेसर पीटर कॉलिगनॉन का कहना है कि इंडोनेशिया के प्लान से बीमारी फैलने की रफ्तार धीमी हो सकती है लेकिन मृत्युदर पर ज्यादा असर की संभावना नहीं है।

क्या बेहतर है यह तरीका?
वहीं, नैशनल यूनिवर्सिटी ऑफ सिंगापुर में यॉन्ग लू लिन स्कूल के प्रफेसर डेल फिशर का कहना है कि युवा वयस्क ज्यादा सक्रिय होते हैं, ज्यादा सामाजिक होते हैं और सफर भी ज्यादा करते हैं। ऐसे में कम्यूनिटी ट्रांसमिशन को कम किया जा सकता है। वहीं, देश के स्वास्थ्य मंत्री बूडी गुनाडी का कहना है कि देश को हर्ड इम्यूनिटी हासिल करने के लिए 18.15 करोड़ लोगों को वैक्सिनेट करना होगा। उसे 42.7 करोड़ खुराकें चाहिए होंगी। हालांकि, हर्ड इम्यूनिटी पर और रिसर्च की जरूरत अभी है।


Advertisement

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

 अंबिकापुर3 mins ago

सियासी खींचतान के बीच पूर्व सीएम अमरिंदर सिंह ने ‘ओ गोरे-गोरे’ पर जमाई महफिल, दिखाया सिंगिंग का जलवा

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह शनिवार को चंडीगढ़ में अपने 47 NDA कोर्स बैचमेट्स के साथ एक पुराने...

 सक्ती17 hours ago

भाजपा ग्रामीण मंडल द्वारा पंडित दीनदयाल उपाध्याय  की जयंती मनाई

सक्ती(चैनल इंडिया)| भारतीय जनता पार्टी ग्रामीण मंडल समिति द्वारा पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती ग्रामीण मंडल सक्ती  के ग्राम पंचायत...

channel india18 hours ago

आबकारी विभाग की में बड़ी कार्रवाई, शराब बनाने की अवैध फैक्ट्रीं का पर्दाफाश

रायपुर(चैनल इंडिया)| छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में नरदाह विधानसभा रोड स्थित अवैध शराब फैक्ट्री बनाने का राजफाश हुआ है। वहां...

channel india18 hours ago

बंगाल की खाड़ी से आने वाला है एक और बड़ा खतरा, जानिए क्या है पूरा मामला….

भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने चेतावनी दी है कि बंगाल की खाड़ी में एक कम दबाव का सिस्टम, जो...

 अंबिकापुर18 hours ago

यहाँ शख्स की हत्या कर लाश को क्रेन से लटकाया, VIDEO वायरल…

काबुल. तालिबान के सत्ता में आने के बाद अफगानिस्तान के हालात अब तेजी से बदल रहे हैं. तालिबान ने शरिया...

Advertisement
Advertisement