खबरे अब तक

खबरे छत्तीसगढ़

बीजापुर एनकाउंटर: नक्सलियों के ‘U शेप व्यूह’ में फंसे थे जवान, 3 तरफ से ऐसे हुआ था हमला



बीजापुर: छत्तीसगढ़ के बीजापुर में हुए नक्सली हमले में 22 जवान शहीद हो गए थे। दरअसल, सशस्त्र बलों को ख़ुफ़िया इनपुट मिला था कि एक बड़ा माओवादी कमांडर वहाँ छिपा हुआ है, जिसके बाद वो क्षेत्र में पहुँचे थे। बीजापुर में हुए इस हमले में नक्सलियों ने सुरक्षाबलों को फंसने के लिए ‘U’ शेप का व्यूह बनाया हुआ था। यहाँ तक कि सशस्त्र बलों तक वो ‘गुप्त सूचना’ भी उन्होंने ही पहुँचवाई थी। इसके बाद सुरक्षाबल जैसे ही इलाके में पहुँचे, माओवादियों ने उनपर तीन तरफ से हमला बोल दिया।

इसे भी पढ़े   नवपदस्थ जिलाधीश रजत बंसल ने की मीडियाकर्मियों से मुलाक़ात, दिया मीडिया से मिले फ़ीडबैक को तरजीह देने का आश्वासन

इस माओवादी हमले की अगुवाई प्रतिबंधित संगठन के ‘बटालियन नंबर 1’ का कुख्यात कमांडर माडवी हिडमा कर रहा था, जिसकी तलाश पुलिस कई वर्षों से कर रही है। उसने अपने साथ 300 नक्सलियों को जुटाया और इलाके के 3 गाँवों को खाली करा लिया। जानबूझ कर जवानों को जंगल वाले क्षेत्र में ले जाया गया। जब तक जवानों को इस बारे में पता चलता, वो जाल में फँस चुके थे और भौगोलिक रूप से भी सही स्थिति में नहीं थे।

वो स्थान ऐसा था, जहाँ दोनों तरफ से पहाड़ियाँ थीं और नक्सलियों के हमले चालु थे। जवान न तो भाग सकते थे और न उनके पलटवार का अधिक असर हो रहा था। जब जवानों ने वहाँ से लौटने का प्रयास किया, तो नक्सलियों द्वारा उन्हें घेर लिया गया। ‘U शेप व्यूह’ के बारे में बता दें कि इससे बाहर निकलने के लिए एक ही जगह होती है – वो रास्ता, जहाँ से आप ने व्यूह में प्रवेश किया हो। जीरागाँव जो 3 तरफ से पहाड़ियों से घिरा है और लौटते हुए भी जवानों पर अंधाधुंध फायरिंग की गई, जिसमे 22 जवान वीरगति को प्राप्त हो गए और 30 से अधिक घायल हो गए।

इसे भी पढ़े   गौठानों में सब्जियों की खेती से स्वसहायता समूहों की महिलाओं ने कमाए 74 हजार, मल्टी एक्टिविटी सेंटर के रूप में विकसित हो रहे हैं गौठान,गौठान अब पशुधन संरक्षण-संवर्धन के साथ ही रोजगार के भी केंद्र!!