बलात्कार मामलों में अदालत न करें घिसी-पिटी….सुप्रीम कोर्ट – Channelindia News
Connect with us

channel india

बलात्कार मामलों में अदालत न करें घिसी-पिटी….सुप्रीम कोर्ट

Published

on


छेड़छाड़ के आरोपी को विक्टिम से राखी बंधवाने की शर्त में जमानत देने के मध्य प्रदेश हाई कोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने इस दौरान देश भर के कोर्ट को सलाह दी है कि वह ऐसे मामले में अपने आदेश में रूढ़िवादी यानी घिसीपिटी ओपिनियन देने से परहेज करें। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अदालतों के आदेश में कहीं भी पुरुषवादी सोच या रूढ़िवादी बातें नहीं होनी चाहिए और विक्टिम महिलाओं के ड्रेस, उनके व्यवहार, उनके अतीत और उनके नैतिकता के बारे में ऑर्डर में कुछ भी नहीं लिखा होना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट ने जेंडर संवेदनशीलता (संवेदीकरण) विषय को ट्रेनिंग का पार्ट बनाने को कहा ताकि जजों की मौलिक ट्रेनिंग में जेंडर संवेदनशीलता अनिवार्य तौर पर रहे।

सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस एएम खानविलकर की अगुवाई वाली बेंच के सामने सुप्रीम कोर्ट की एडवोकेट अपर्णा भट्ट और अन्य 8 महिला वकीलों ने हाई कोर्ट के फैसले को चुनौती दी थी। सुप्रीम कोर्ट ने हाई कोर्ट के फैसले को खारिज करते हुए इस मामले में तमाम निर्देश जारी किए हैं। मध्यप्रदेश हाई कोर्ट ने छेड़छाड़ मामले में आरोपी को जमानत देते हुए शर्त लगाई थी कि वह विक्टिम से राखी बंधवाए। इस फैसले को खिलाफ को सुप्रीम कोर्ट में 9 महिला वकीलों ने चुनौती दी थी और कहा था कि ये फैसला कानून के सिद्धांत के खिलाफ है। सुप्रीम कोर्ट ने मामले में अटॉर्नी जनरल से सहयोग करने को कहा था।

राखी बंधवाकर एक छेड़छाड़ के आरोपी को भाई की तरह बदलने का आदेश स्वीकार्य नहीं सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि जमानत की शर्त पर राखी बंधवाने की बात रखना और छेड़छाड़ के आरोपी को भाई के तौर पर बदलने के लिए दिया गया जूडिशल आदेश पूरी तरह से अस्वीकार्य है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हम इस आदेश को स्वीकार नहीं कर सकते। इस तरह की शर्त सेक्शुअल अपराध की गंभीरता को कम करता है। ये नाबालिग द्वारा किया गया पाप नहीं है कि उसे सामाजिक सेवा करवा कर या राखी बांधने का आदेश देकर या गिफ्ट दिलवा कर या शादी का वादा करवा कर या माफी मंगवाकर रास्ता निकाला जाए। सेक्शुअल ऑफेंस कानून के नजर में अपराध है।
आदेश में कहीं भी पुरुषवादी सोच और रूढ़िवादी बातें नहीं होनी चाहिए सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस एएम खानविलकर ने कहा कि याचिका में हाई कोर्ट और निचली अदालत के जजों को निर्देश देने की गुहार लगाई गई थी वह रेप और छेड़छाड़ जैसे केस में ऐसी शर्त न लगाएं जिससे कि विक्टिम के ट्रॉमा पर विपरीत असर हो। सुप्रीम कोर्ट ने निर्देश दिया है कि जमानत का कोई भी शर्त ऐसा न हो जिससे कि आरोपी और विक्टिम की मुलाकात हो। विक्टिम का प्रोटेक्शन होना चाहिए और ये सुनिश्चित होना चाहिए कि उसका और प्रताड़ना न हो।

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING9 mins ago

इस विधायक ने सड़क पर दुकान लगाकर बेची चाय, एक कप की कीमत बताई 15 लाख, वजह जान आप भी हो जाएगे हैरान…

सियासत में नेता एक दूसरे को तंज करने और आरोप लगाने के लिए नए-नए तरीके खोजते रहते हैं। ऐसा ही...

balod district42 mins ago

भारतीय युंका द्वारा 5 अगस्त को दिल्ली संसद घेराव में बालोद जिला युवा कांग्रेस के सभी कार्यकर्ता होंगे शामिल…पढ़े पूरी खबर…

दल्लीराजहरा(चैनल इंडिया)| बालोद जिला युवा कांग्रेस के प्रभारी महासचिव परितोष हंसपाल  से प्राप्त जानकारी अनुसार, भारतीय राष्ट्रीय युवा कांग्रेस अध्यक्ष...

channel india50 mins ago

छत्तीसगढ़ : धारदार हथियार से युवक की हत्या, सड़क किनारे दलदल में फंसा हुआ मिला शव, जांच में जुटी पुलिस…

बिलासपुर(चैनल इंडिया)। मोपका इलाके के आवासपारा में अज्ञात आरोपियों ने धारदार हथियार से एक युवक की हत्या कर दी. मृतक...

BREAKING1 hour ago

PF खाताधारकों को मिलेगा 1 लाख रुपये का फायदा, जानिए कैसे निकाल सकते हैं आप?

पीएफ खाताधारकों के लिए बड़ी खुशखबरी है. अब अगर आपको पैसों की जरूरत है तो EPFO आपको एक लाख रुपये ...

channel india1 hour ago

‘चवन्नी’ जैसा दिखने वाला यह सिक्का बिक सकता है 2 करोड़ में, हजारों साल पहले बने Golden Coin पर बनी है इस राजा की मुहर…

ब्रिटेन में खजाने की तलाश करने वाले एक शख्स के हाथ पिछले साल एक प्राचीन और बेहद कीमती सिक्का लगा...

Advertisement
Advertisement