परमबीर आपके ‘डार्लिगं’ बन गए…सरकार गिराने की कोशिश करोगे तो आग लगेगी….शिवसेना…पढ़िये – Channelindia News
Connect with us

देश-विदेश

परमबीर आपके ‘डार्लिगं’ बन गए…सरकार गिराने की कोशिश करोगे तो आग लगेगी….शिवसेना…पढ़िये

Published

on


एंटीलिया-सचिन वाझे केस में मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह के लेटर बम से महाराष्ट्र की सियासत में घमासान जारी है। अनिल देशमुख विपक्ष की रडार पर हैं और भाजपा के आरोपों का काउंटर कैसे किया जाएगा, इस पर आज शिवसेना और एनसीपी बैठक में मंथन करने वाले हैं। इस बीच शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना के जरिए पलटवार किया है और सवाल किया है कि परमबीर सिंह की चिट्ठी कहीं किसी की साजिश तो नहीं। शिवसेना ने कहा है कि जिस परमबीर सिंह पर कल तक भाजपा भरोसा नहीं रख रही थी, उसी परमबीर सिंह को बीजेपी सिर पर बैठाकर क्यों नाच रही है। साथ ही भाजपा को चेताया है कि सरकार गिराने की कोशिश करोगे तो आग लगेगी।

मुखपत्र ‘सामना’ में शिवसेना ने परमबीर सिंह के पत्र पर सवाल खड़े किए हैं और पूछा है कि परमबीर सिंह के खिलाफ सरकार ने कार्रवाई की है इसलिए उनकी भावनाओं का विस्फोट समझ सकते हैं। मगर सरकारी सेवा में अत्यंत वरिष्ठ पद पर विराजमान व्यक्ति द्वारा ऐसा पत्राचार करना नियमोचित है क्या? गृहमंत्री पर आरोप लगाने वाला पत्र मुख्यमंत्री को लिखा जाए और उसे प्रसार माध्यमों तक पहुंचा दिया जाए, यह अनुशासन के तहत उचित नहीं है। परमबीर सिंह का दावा है कि अनिल देशमुख ने उन्हें 100 करोड़ की वसूली का टारगेट दिया था, मगर सवाल ये है कि बीते डेढ़ साल से जब रेस्टोरेंट-पब बंद हैं तो ये पैसे कहां से आते?

इसे भी पढ़े   CRIME : मां को आपत्तिजनक हालत में प्रेमी के साथ देखा, तो चला दी गोली

शिवसेना ने संपादकीय में लिखा- ‘परमबीर सिंह को थोड़ा संयम रखना चाहिए था। उस पर सरकार को परेशानी में डालने के लिए परमबीर सिंह का कोई इस्तेमाल कर रहा है क्या? ऐसी शंका भी है। असल में जिस सचिन वाझे के कारण ये पूरा तूफान खड़ा हुआ है, उन्हें इतने असीमित अधिकार दिए किसने? सचिन वाझे ने बहुत ज्यादा उधम मचाया। उसे समय पर रोका गया होता तो मुंबई पुलिस आयुक्त पद की प्रतिष्ठा बच गई होती। परंतु इस पूर्व आयुक्त द्वारा कुछ मामलों में अच्छा काम करने के बावजूद वाझे प्रकरण में उनकी बदनामी हुई। इस प्रकरण के तार परमबीर सिंह तक पहुंचेंगे ऐसी आशंका जांच में सामने आने से परमबीर सिंह ने खुद को बचाने के लिए इस तरह के आरोप लगाए हैं, यह सत्य होगा तो इस पूरे प्रकरण में भाजपा, सरकार को बदनाम करने के लिए परमबीर सिंह का इस्तेमाल कर रही है।’

शिवसेना ने कहा कि इस साजिश के पीछे सिर्फ सरकार को सिर्फ बदनाम ही करना है, ऐसा नहीं है बल्कि सरकार को मुश्किल में डालना है, ऐसी उनकी नीति है। देवेंद्र फडणवीस दिल्ली जाकर मोदी-शाह को मिलते हैं और दो दिन में परमबीर सिंह ऐसा पत्र लिखकर खलबली मचाते हैं। उस पत्र का आधार लेकर विपक्ष जो हंगामा करता है, यह एक साजिश का ही हिस्सा नजर आता है। महाराष्ट्र में विपक्ष ने केंद्रीय जांच एजेंसियों का निरंकुश इस्तेमाल शुरू किया है, महाराष्ट्र जैसे राज्य के लिए ये उचित नहीं है। एक तरफ राज्यपाल राजभवन में बैठकर अलग ही शरारत कर रहे हैं तो दूसरी तरफ केंद्र सरकार केंद्रीय जांच एजेंसियों के माध्यम से दबाव का खेल खेल रही है।

इसे भी पढ़े   पत्थलगांव नगर पंचायत उपाध्यक्ष श्याम नारायण गुप्ता द्वारा वट सावित्री पूजन पर फल एवं मार्क्स बांटे गए एवं किया गया वृक्षारोपण

सामना में लिखा गया है कि महाराष्ट्र के संदर्भ में कानून व व्यवस्था आदि ठीक न होने का ठीकरा फोड़ा जाए और राष्ट्रपति शासन का हथौड़ा चलाया जाए, यही महाराष्ट्र के विपक्ष का अंतिम ध्येय नजर आता है और इसके लिए नए प्यादे तैयार किए जा रहे हैं। परमबीर सिंह का इस्तेमाल इसी तरह से किया जा रहा है, यह अब स्पष्ट दिखाई दे रहा है। अर्थात पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह ने जो आरोपों की धूल उड़ाई है, उसके कारण गृह विभाग की छवि निश्चित ही मलीन हुई है। यह सरकार की प्रतिष्ठा का सवाल बन गया है और विपक्ष को बैठे-बैठाए मौका मिल गया है।

इसे भी पढ़े   31 जुलाई तक 5.5 लाख COVID-19 केस हो जाएंगे दिल्ली में, 81,000 बेड की ज़रूरत पड़ेगी : मनीष सिसोदिया

परमबीर ने देशमुख पर लगाए हैं वसूली के आदेश देने का आरोप
मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखे आठ पृष्ठों के लेटर में मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने आरोप लगाया है कि देशमुख अपने सरकारी आवास पर पुलिस अधिकारियों को बुलाते थे और उन्हें बार, रेस्तरां और अन्य स्थानों से उगाही करने का लक्ष्य देते थे। उन्होंने आरोप लगाया था कि देशमुख ने हर महीने 100 करोड़ रुपये की वसूली करने का टारगेट दिया था। हालांकि, देशमुख ने सिंह के आरोपों को निराधार बताकर खारिज कर दिया है और इसे आईपीएस अधिकारी द्वारा खुद को जांच से बचाने का प्रयास करार दिया है।

शिवसेना ने कहा कि परमबीर सिंह के निलंबन की मांग कल तक महाराष्ट्र का विपक्ष कर रहा था। आज परमबीर सिंह विरोधियों की ‘डार्लिंग’ बन गए हैं और परमबीर सिंह के कंधे पर बंदूक रखकर सरकार पर निशाना साध रहे हैं। महाविकास आघाड़ी सरकार के पास आज भी अच्छा बहुमत है। बहुमत पर हावी होने की कोशिश करोगे तो आग लगेगी, यह चेतावनी न होकर वास्तविकता है। किसी अधिकारी के कारण सरकार बनती नहीं और गिरती भी नहीं है, यह विपक्ष को भूलना नहीं चाहिए!

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING5 mins ago

इस महिला विधायक ने पुलिसकर्मी को मारा थप्पड़, FIR हुआ दर्ज…

राजस्थान के कुशलगढ़ से निर्दलीय विधायक रमीला खड़िया पर पुलिसकर्मी को थप्पड़ मारने का आरोप लगा है. आरोप है कि...

BREAKING19 mins ago

हुस्न के लिए देश से गद्दारी : लड़कियों की मीठी-मीठी बातों में आकर भारतीय सेना की खुफियां जानकारी भेजता था पाकिस्तान, हुआ गिरफ्तार

राजस्थान से हनी ट्रैप में फंस कर देश की सेना की महत्वपूर्ण जानकारी पाकिस्तान को भेजने के मामले सामने आते...

BREAKING38 mins ago

घायल मरीजों के मदद के लिए सामाजिक कार्यकर्ता रूपसिंग साहू पहुंचे अस्पताल

राजिम(चैनल इंडिया)। गरियाबंद ग्राम मालगांव (कोचबाय) के निषाद परिवार कल ग्राम खट्टी (ढोड़रा) अभनपुर जिला रायपुर में परिवारिक दशगात्र कार्यक्रम...

 सक्ती56 mins ago

अंग्रेजी माध्यम स्कूलों में पढ़ाई का स्तर उच्च गुणवत्ता का हो ताकि प्रतियोगी परीक्षाओं  के लिए विद्यार्थी स्वयं को तैयार कर सकें – कलेक्टर जितेन्द्र कुमार शुक्ला

सक्ती(चैनल इंडिया)| कलेक्टर जितेन्द्र कुमार शुक्ला ने कहा कि विद्यार्थियों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा उपलब्ध करवाने के लिए राज्य सरकार द्वारा...

BREAKING1 hour ago

भारत में वैक्सीन की वजह से पहली मौत, सरकार ने की पुष्टि…

पहली बार राष्ट्रीय AEFI कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में माना है कि 1 व्यक्ति की मौत कोरोना वैक्सीन की वजह...

Advertisement
Advertisement