दुनिया के 30 सबसे ज्यादा प्रदूषित शहरों में 22 शहर भारत में हैं….जानिए क्यो – Channelindia News
Connect with us

channel india

दुनिया के 30 सबसे ज्यादा प्रदूषित शहरों में 22 शहर भारत में हैं….जानिए क्यो

Published

on


नई दिल्ली. वर्ल्ड एयर क्वालिटी रिपोर्ट 2020 (World Air Quality Report 2020) में दुनिया के 30 सबसे ज्यादा प्रदूषित शहरों (Polluted Cities) में से 22 शहर भारत (India) में हैं. इन 22 शहरों में से 10 शहर उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) से आते हैं. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ (Lucknow) दुनिया के प्रदूषित शहरों में 9वें स्थान पर है. वहीं, देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) दुनिया की सबसे प्रदूषित राजधानी (Capital) में टॉप पर है. हालांकि, दिल्ली में पिछले कुछ महीनों से प्रदूषण के स्तर में थोड़ी-बहुत सुधार देखने को मिली है, लेकिन यह नकाफी है. दिल्ली की वायु गुणवत्ता 2019 से 2020 की तुलना में 15% बेहतर हुई है. आईक्यू एयर रिपोर्ट 2019 के मुकाबले 2020 की रिपोर्ट में भारतीय शहर 63 फीसदी पहले से बेहतर हुए हैं.

इसे भी पढ़े   भारत में लगातार घट रही है ऐक्टिव केसों की संख्या, 24 घंटे में 16,505 नए मरीज और 214 मौतें

वर्ल्ड एयर क्वालिटी रिपोर्ट के आंकड़ें का मतलब
हालांकि, वर्ल्ड एयर क्वालिटी रिपोर्ट के आंकड़ें उत्साहित करने वाले हैं. फिर भी इन्हीं आंकड़ों के मुताबिक वायु प्रदूषण का स्वास्थ्य और आर्थिक कीमत चिंताजनक बनी हुई है. ये रिपोर्ट कोविड-19 लॉकडाउन से वायु गुणवत्ता पर पड़ने वाले प्रभावों को भी दर्ज करती है. दिल्ली को स्विस संगठन आईक्यू एयर द्वारा तैयार वर्ल्‍ड एयर क्वालिटी रिपोर्ट 2020 में दुनिया की सबसे अधिक प्रदूषित राजधानी बताया गया है. दरअसल, स्विस संगठन ने फेफड़े को नुकसान पहुंचाने वाले एयरबोर्न पार्टिकल PM 2.5 के आधार पर वायु गुणवत्ता मापकर बीते मंगलवार को रिपोर्ट जारी की है. इसके साथ रिपोर्ट में बताया गया है कि दुनिया के 50 सबसे प्रदूषित शहरों में बांग्लादेश, चीन, भारत और पाकिस्तान से 49 शहर आते हैं.

इसे भी पढ़े   38 वीं बार दूल्हा बने फिर भी बिना दुल्हन के लौटी बारात, जानें पूरा मामला

वर्ल्‍ड एयर क्वालिटी रिपोर्ट 2020 में देशों की रैंकिंग में बांग्लादेश की स्थिति सबसे खराब बताई गई है. इसके बाद पाकिस्तान और भारत का नंबर आता है. जबकि, वर्ल्‍ड कैपिटल सिटी रैंकिंग में दिल्ली टॉप पर है और उसके बाद ढाका और उलानबटार का नंबर आता है.

क्या कहते हैं जानकार
ग्रीनपीस इंडिया के क्लाइमेट कैंपेनर अविनाश चंचल के मुताबिक, ‘लॉकडाउन की वजह से भले ही दिल्ली समेत कई शहरों में प्रदूषण कम हुआ है पर वायु प्रदूषण का अर्थव्यवस्था और स्वास्थ्य पर पड़ने वाला प्रभाव भयावह है. बेहतर यही होगा कि सरकार सतत और स्वच्छ ऊर्जा को प्राथमिकता दे. साथ ही यातायात के लिए सस्ते, सुचारु और कार्बन न्यूट्रल विकल्पों को बढ़ावा दे. जैसे कि पैदल चलना, साइकिलिंग और समावेशी सार्वजनिक यातायात को बढ़ावा दिया जाए.’

इसे भी पढ़े   जश्‍न मनाने से पहले पढ़ लें ये खबर, वरना जेल में गुजारना पड़ सकता है नया साल

क्यों प्रदूषण भारत में ज्यादा है?
रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में वायु प्रदूषण के कारण परिवहन, खाना पकाने के लिए बायोमास जलाना, बिजली उत्पादन, उद्योग, निर्माण, अपशिष्ट जलाना और समय समय पर पराली जलाना आदि हैं. एक अनुमान के मुताबिक दिल्ली में 20 से 40 फीसदी वायु प्रदूषण पंजाब और हरियाणा के खेतों में पराली जलाने की वजह से होता है. हालांकि, साल 2020 में वायु प्रदूषण में भारी गिरावट दर्ज की गई. अब 2021 में प्रदूषण फिर से अपने खतरनाक स्तर को छुता हुआ दिख रहा है.

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING2 hours ago

अगर आपके पास भी है एक्सपायरी ड्राइविंग लाइसेंस तो घबराने की जरूरत नहीं, रिन्यू करवाने के लिए करें ये काम

अगर आप सड़कों पर वाहन चलाने के शौकीन हैं, तो आपके पास ड्राइविंग लाइसेंस होना बेहद जरूरी है। आप यह...

BREAKING2 hours ago

तहसील परिसर में युवक ने सोशल मीडिया में लाइव आकार खुद को मारी गोली, पूर्व SDM पर लगाए गंभीर आरोप

मध्य प्रदेश के रायसेन में एक शख्स ने फेसबुक लाइव के दौरान खुद को गोली मार ली. इस घटना का...

BREAKING2 hours ago

टीका लगवाने के और भी हैं फायदे, ये बड़ी कंपनियां दे रही हैं शानदार ऑफर, पढ़े पूरी खबर…

वैक्सीनेशन ड्राइव को लेकर निजी कंपनियों भी उत्साहित हैं। वजह ये है कि जितनी ज्यादा संख्या में लोगों को टीका...

BREAKING3 hours ago

अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी देकर किया ब्लैकमेल, फरार आरोपी हुआ गिरफ्तार…

धरसींवा(चैनल इंडिया)|  जून माह के प्रथम सप्ताह में थाना ख़रोरा अंतर्गत ग्राम के सरपंच पति को उसका अश्लील विडीओ वायरल...

BREAKING3 hours ago

चीन सीमा से लगे उत्तराखंड के इस छोटे से गांव का कभी भी मिट सकता है नामों निशान, लोगों में दहशत का माहौल, जानिए क्यों?

हर साल उत्तराखंड में मानसून अपने साथ खतरा भी साथ लाता है. बारिश होते ही कई गांव और कस्बों में...

Advertisement
Advertisement