खबरे अब तक

खबरे छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ में टीकाकरण के नाम पर भी ठगी, पुलिस ने जारी की एडवाईजरी



छत्तीसगढ़ में टीकाकरण के नाम पर भी ठगी, पुलिस ने जारी की एडवाईजरी.. कहा – इंटरनेट लिंक या फोन पर नहीं दे निजी जानकारी:-

छत्तीसगढ़। छत्तीसगढ़ में कोरोना वैक्सीन के नाम पर भी लोग ठगे जा रहे हैं। हाईटेक ठग कोरोना टीकाकरण के लिए रजिस्ट्रेशन कराने के नाम पर लोगों से व्यक्तिगत जानकारी पूछकर उनके खातों से बड़ी रकमें उड़ाई जा रही है। हाल में ही ऐसी घटना जिले में एसईसीएल में कार्यरत कुछ अधिकारियों और कर्मचारियों के साथ घटित हुई है।

कोरोना टीकाकरण के नाम पर साईबर ठगी कर लोगों के खातों से पैसे उड़ाने की घटनाओं को रोकने के लिए पुलिस अधीक्षक अभिषेक मीणा ने जिले की साइबर सेल को तत्काल कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही उन्होने आमजनों से भी यह अपील की है कि कोरोना टीकाकरण के पंजीयन के लिए अज्ञात नंबरो से आए फर्जी लिंक, कॉल प्राप्त होने पर आमजन भी व्यक्तिगत सर्तकता रखें। किसी भी परिस्थिति में अपनी व्यक्तिगत जानकारी शेयर ना करें। कोरबा पुलिस द्वारा इस संबंध में एडवाईजरी भी जारी की गई है। साइबर ठगी होने पर तत्काल पुलिस द्वारा जारी साइबर सेल नंबर 98271-50803 या 87707-27143 पर सूचित किया जा सकता है।

इसे भी पढ़े   CG Breaking: किराए के लिए विवाद करना पड़ा महंगा, मकान मालिक ने ली किराएदार की जान

पुलिस द्वारा जारी एडवाईजरी के अनुसार किसी भी अनजान व्यक्ति को फोन पर बैंक खाता संबंधी एवं व्यक्तिगत जानकारी न देवें। मोबाइल टावर लगाने, क्योस्क सेंटर खोलने सहित अन्य के नाम से आने वाले फोन काल या विज्ञापन से सावधान रहें और किसी भी अनजान व्यक्ति के खाते में पैसे न डालें। फेसबुक, व्हाट्सएप्प या अन्य मैसेंजर पर कोई परिचित या दोस्त पैसे की डिमांड करे तो बिना जांचे या काल किए पैसे ने भेजें। फेसबुक का पासवर्ड स्ट्रांग बनाए, जिसमें अल्फाबेट, कोई संख्या और कोई स्पेशल कैरेक्टर शामिल होने चाहिए, ना कि अपना नाम, मोबाइल नंबर, जन्म तिथि व सरल भाषा में ना हो। कोई भी कस्टमर केयर नंबर गूगल से लेने की बजाए ओरिजनल वेबसाइट से हासिल करें। कस्टमर केयर नंबर हमेशा 1800 से ही शुरू होता है ना कि किसी मोबाइल नंबर से, हो सके तो किसी भी वेबसाइट के यूआरएल को सीधे टाइप कर उपयोग करें। अनजान नंबर और कंपनी के नाम से भेजे गए मैसेज में लुभावने ऑफर की लिंक को क्लिक करने से बचें। अच्छा होगा की देखने के बाद डिलीट भी कर देवें। प्रोमोकार्ड, रिवार्ड पाइंट, कैश बैक के लालच में ना आएं।

इसे भी पढ़े   ग्रामीण महिलाओं को स्कूलों से जोड़ने के लिए किया जा रहा प्रयास

लॉटरी लगने के नाम से आए हुए व्हाट्सएप्प, मोबाइल कॉल से सावधान रहें। ओएलएक्स ऐप्प में खरीदी-बिक्री करते समय सावधानी रखें, अच्छी तरह से जांच करने के बाद ही खरीदी-बिक्री करें। ऑनलाइन मनी ट्रांसफर साइट जैसे एयरटेल मनी, भीम एप्प, मोबीक्विक, उबर, चिलर, फोन पे, गूगल पे, पेटीएम में अनजान लिंक को क्लिक करने से बचें। ठग आपके खाते में रिवार्ड (बोनस) पैसा वापस करने के नाम से एक लिंक भेजते हैं जिस पर क्ल्कि करते ही आपके खाते से पैसा निकल जाएगा। सोशल मीडिया फेसबुक, व्हाट्सएप्प में कम कीमत बिक्री के पोस्ट पर भरोसा ना करें। मोबाइल एप्लीकेशन जैसे एनीडिस्क, क्विक सपोर्ट, टीम व्यूवर का यूजर आईडी और पासवर्ड किसी भी अनजान व्यक्ति को न दें और किसी के कहने पर डाउनलोड भी न करें, इससे आपके मोबाइल का कंट्रोल ठग के पास चला जाएगा और आप ठगी का शिकार हो जाएंगे।

इसे भी पढ़े   कोरोना बड़ी खबर : कोरोना ने मौत व मरीज दोनों का रिकॉर्ड तोड़ा , एक ही दिन में 22 मौत, 2600 नये मरीज मिले….. कुल पोजेटिव 40 हज़ार तो, बीमार मरीज की संख्या 20 हज़ार के पार….राजधानी में 14 ने तोड़ा दम, देखिये आपके जिले में कितने मिले मरीज, कितने की हुई मौत

मोबाइल पर आए अनजान लिंक में अपने बैंक खाते की जानकारी जैसे ओटीपी, सीवीवी, पिन, यूपीआई, एटीएम कार्ड की डिटेल साझा न करें। साइबर ठग रजिस्ट्रेशन के नाम पर एक छोटी राशि जमा करने का लालच देकर आपके बैंक डिटेल की जानकारी हासिल कर सकते हैं। अपने क्रेडिट तथा डेबिट कार्ड अपने सामने ही स्वाइप कराएं। किसी अनजान व्यक्ति से एटीएम से रकम निकालने में मदद ने लें और नही उसे अपना एटीएम कार्ड दें। इससे कोई आपके कार्ड की क्लोनिंग या कार्ड भी बदल सकता है।