चीतल शिकार के मामले का चौथा आरोपी भी गिरफ्तार...

चीतल शिकार के मामले का चौथा आरोपी भी गिरफ्तार...

छत्तीसगढ़ डेस्क 

पिथौरा। अब चीतल शिकार मामले में सभी चार आरोपी विभागीय टीम द्वारा पकड़े जा चुके है। ज्ञात हो कि बारनवापारा परिक्षेत्र के आमगांव परिवृत्त के अकलतरा परिसर के कक्ष क्रमांक 120 में शिकारियों ने जीआई तार से विद्युत करंट प्रवाहित फंदे में फंस कर एक नर चीतल करंट से मारा गया था। घटना के बाद चरोदा के डिप्टी रेंजर सत्येंद्र कश्यप की ततपरता से मामले का खुलासा हुआ था। इसके बाद अभ्यारण्य अधीक्षक आनंद कुद्ररया एवं परिक्षेत्र अधिकारी कृशानु चंद्राकर ने स्वयं घटना स्थल पहुंच कर मामले की छानबीन की थी। जांच के बाद शिकार के मामले में शामिल चार शिकारियों में से ग्राम गबौद के दो अभियुक्तों में अर्जुन यादव (34) व लोकनाथ बरिहा (33) तथा एक अन्य पकड़े गए थे जिनमें ग्राम देवगांव योगेश कुमार ठाकुर (37) सहित 3 आरोपी पकड़े गए थे। इनमें से एक आरोपी बेनूराम यादव (40) हाल मुकाम देवगांव की तलाश की जा रही थी। घटना स्थल से सभी पकड़े गए आरोपियों के साथ ही शिकार से मृत हुए चीतल का कटा हुआ एक नग सिर,चार पैर,एक नग चमड़ा व साथ ही शिकार के लिए प्रयुक्त किए गए दो गुच्छा करीब 3 किलोग्राम जीआई तार, एक नग हंसिया व एक कुल्हाड़ी भी मौके से बरामद किया गया था।
इसके अलावा ग्राम गबौद के ऐबन नामक एक तालाब से भी चीतल का उबला हुआ पावभर मांस बरामद किया गया। वहीं अभियुक्त अर्जुन यादव के घर से चीतल का कटा हुआ कच्चा मांस करीब 5 किलोग्राम, बेनूराम यादव के घर से करीब ढाई किलोग्राम व योगेश कुमार ठाकुर के घर से एक किलोग्राम के लगभग चीतल का कच्चा मांस भी मिला था। इस तरह अभियुक्तों के घरों से जुमला करीब साढ़े 8 किग्रा चीतल का कच्चा मांस बरामद किया गया था। सम्पूर्ण कार्रवाई में परिक्षेत्र अधिकारी कृषाणु चन्द्राकार, पवन सिन्हा, परिक्षेत्र सहायक गीतेश बंजारे, गोपाल वर्मा, सत्येंद्र कुमार कश्यप, कपूरचंद बरिहा,परिसर रक्षी अमिताभ बंजारे, रविश्वर प्रसाद मिरी एवं अन्य उपस्थित वन अमलों का विशेष योगदान रहा।