4 महीने की गर्भवती की गंभीर चोट से मौत...

4 महीने की गर्भवती की गंभीर चोट से मौत...

छत्तीसगढ़ डेस्क 

मुंगेली। गुरुवार तड़के हाथी गांव में आ गए और उत्पात मचाने लगे। हाथियों के चिंघाड़ने की आवाज से गांववालों की नींद खुल गई। सभी डर गए। इधर कच्चे मकान में सो रहे बैगा दंपति भी उठकर बाहर आए। पति-पत्नी हाथी को देखकर दहशत में आ गए। पत्नी राजकुमारी बैगा (25 वर्ष) हाथियों से डरकर भागने लगी। इसी दौरान उसका पैर साड़ी में फंस गया और वो पेट के बल गिर गई। इससे उसे गंभीर चोट आई। महिला दर्द से छटपटाने लगी। राजकुमारी बैगा 4 महीने की गर्भवती थी।

इधर उसे एंबुलेंस की मदद से सुबह लोरमी के सामुदायिक अस्पताल इलाज के लिए लाया जा रहा था, लेकिन रास्ते में बिजराकछार पहुंचते ही महिला ने दम तोड़ दिया। डाक्टरों के मुताबिक गर्भस्थ शिशु की भी मौत हो गई। वहीं हाथियों से डरकर भागते हुए 2 अन्य लोग भी गिरकर घायल हुए हैं। उन्हें भी लोरमी के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया, जहां उनका इलाज जारी है। मृतका के पति दूजराम बैगा ने बताया कि 5 की संख्या में हाथियों का दल गांव में आ गया था, जिससे वहां अफरातफरी का माहौल बन गया था। इसी दौरान भागते हुए उसकी पत्नी गिरकर घायल हो गई थी और अस्पताल लाते हुए उसकी मौत हो गई।