खबरे अब तक

खबरे छत्तीसगढ़

खतरनाक : मोबाइल ब्लास्ट से घायल हुआ नाबालिग, धमाके की आवाज से पड़ोसी भी डरे



बिहार (Bihar) के औरंगाबाद (Aurangabad) में मोबाइल ब्लास्ट (Mobile blast) के चलते हुए हादसे में एक लड़का गंभीर रूप से घायल हो गया है। इस मोबाइल धमाके की वजह से लड़के की जान भी जा सकती थी। इस मामले को सुनकर बेशक आप हैरान हो रहे हो। लेकिन यह मामला सच्च है। अगर इस वक्त आपके हाथों में मोबाइल है तो शायद आप भी डर जाएं। मोबाइल धमाके की वजह से जख्मी लड़के को ईलाज (Treatment) के लिए अस्पताल (Hospital) में भर्ती करवाया गया है। धमाके के वक्त लड़के के हाथों में था मोबाइल बताया जा रहा है कि इस मोबाइल धमाके की वजह से औरंगाबाद जिले के ओबरा ब्लॉक के चन्दा गांव में शिवनायक मिश्र के 15 वर्षीय बेटे अंकुर जख्मी हुआ है। इस समय जख्मी लड़के का उपचार अस्पताल में चल रहा है। हादसे के बारे में पीड़ित के चाचा डॉ हेरम्ब कुमार मिश्र का कहना है कि अंकुर हाथ में रेडमी गो कंपनी का मोबाइल लेकर बैठा हुआ था। इसी दौरान लड़के के हाथों में ही अचानक बड़ी तेज आवाज करते हुए ये मोबाइल फट गया। उसके बाद इस मोबाइल फोन में आग भी लग गई। धमाके के दौरान मोबाइल में लगी आग की चिनगारी लड़के अंकुर के चेहरे और कपड़े पर पड़ गई। जिससे उसके शरीर के कई अंज झुलस गए।

इसे भी पढ़े   अनाज वितरण में लापरवाही के कारण क्लेक्टर झा ने 04 शिक्षक को किया निलंबित!!

धमाके के वक्त लड़के के हाथों में था मोबाइल बताया जा रहा है कि इस मोबाइल धमाके की वजह से औरंगाबाद जिले के ओबरा ब्लॉक के चन्दा गांव में शिवनायक मिश्र के 15 वर्षीय बेटे अंकुर जख्मी हुआ है। इस समय जख्मी लड़के का उपचार अस्पताल में चल रहा है। हादसे के बारे में पीड़ित के चाचा डॉ हेरम्ब कुमार मिश्र का कहना है कि अंकुर हाथ में रेडमी गो कंपनी का मोबाइल लेकर बैठा हुआ था। इसी दौरान लड़के के हाथों में ही अचानक बड़ी तेज आवाज करते हुए ये मोबाइल फट गया। उसके बाद इस मोबाइल फोन में आग भी लग गई। धमाके के दौरान मोबाइल में लगी आग की चिनगारी लड़के अंकुर के चेहरे और कपड़े पर पड़ गई। जिससे उसके शरीर के कई अंज झुलस गए। जख्मी लड़के की तबियत में हो रहा सुधार चाचा के अनुसार मोबाइल धमाके की आवाज इतनी तेज थी। काफी देर तक तो लड़का अचेत ही रह गया। इस दौरान घर में अफरा-तफरी भी मच गई। बताया जा रहा है जख्मी लड़के अंकुर का ईलाज जिले के दाउदनगर स्थित एक निजी डॉक्टर के यहां चल रहा है। जहां लड़के की तबियत में सुधार हो रहा है। चाचा हेरम्ब कुमार मिश्र का कहना है कि आज से पहले वो जिन घटनाओं के बारे में समाचार पत्रों में पढ़ते थे। ऐसी ही एक घटना उनके घर में घट गई।