कोरोना महामारी से पीड़ित लोग हो रहे हैं डिप्रेशन के शिकार – Channelindia News
Connect with us

देश-विदेश

कोरोना महामारी से पीड़ित लोग हो रहे हैं डिप्रेशन के शिकार

Published

on


एक नए अध्ययन में सामने आया है कि कोरोना संक्रमण से ठीक हो चुके लोगों में से एक तिहाई में तीन से छह महीने के भीतर कई प्रकार की मानसिक समस्याएं देखने को मिल रही हैं।ब्रिटेन के ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने 2,30,000 लोगों परअध्ययन किया, जो संक्रमण से ठीक हुए थे। उन्होंने पाया कि हर तीन में से एक ठीक हुए रोगी को छह महीने के भीतर मनोरोग की स्थिति से जूझना पड़ा। शोधकर्ताओं का कहना है कि कोरोना लोगों को मानसिक रोगी बना रहा है।

कई तरह के मानसिक रोगों के लक्षण देखे गए: हालांकि विश्लेषण करने वाले शोधकर्ताओं ने जानकारी देते हुए कहा कि यह स्पष्ट नहीं है कि कोविड-19 वायरस को मनोरोग स्थितियों जैसे कि चिंता और अवसाद से कैसे जोड़ा गया, लेकिन प्रतिभागियों में इस तक के कुल 14 मानसिक रोगों से संबंधित लक्षण देखे गए और उनका निदान किया गया। इस दिशा में अभी और शोध करने की जरूरत: ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के मनोचिकित्सक मैक्स टक्वेट ने कहा कि हमारे परिणाम बताते हैं कि कोविड-19 संक्रमण के बाद मस्तिष्क संबंधी रोग फ्लू के अन्य श्वसन संक्रमणों के बाद सबसे अधिक आम हैं। उन्होंने कहा कि इस दिशा में और शोध करने की जरूरत है। ऑक्सफोर्ड के एक मनोचिकित्सक प्रोफेसर, पॉल हैरिसन ने कहा कि अधिकांश मानसिक विकारों के लिए अलग-अलग और छोटे जोखिम हैं, लेकिन पूरी आबादी में इसका प्रभाव काफी हो सकता है।

बढ़ते मामलों को लेकर विशेषज्ञ चिंतित : गंभीर संक्रमण से ठीक हुए लोगों में मस्तिष्क विकारों के जोखिमों के प्रमाण से स्वास्थ्य विशेषज्ञ चिंतित हैं। पिछले साल शोधकर्ताओं द्वारा किए गए अध्ययन में पाया गया था कि कोविड-19 से बचे 20 फीसदी लोगों में तीन महीने के भीतर एक मनोरोग समस्या का पता चला था। शोधकर्ताओं ने इस तरह किया अध्ययन यह अध्ययन लांसेट साइकाइट्री जर्नल में प्रकाशित हुआ है। इसमें शोधकर्ताओं ने 236,379 कोविड-19 रोगियों के स्वास्थ्य रिकॉर्ड का विश्लेषण किया। पाया गया कि 34 फीसदी प्रतिभागियों में कोरोना संक्रमण से पूरी तरह ठीक होने छह महीने के बाद न्यूरोलॉजिकल बीमारियों का पता चला था। इनमें 17 फीसदी प्रतिभागियों में चिंता देखी गई, वहीं खराब मूड से संबंधित प्रतिभागियों की संख्या 14 फीसदी थी। इसके अलावा गंभीर रोगियों, जिन्हें गंभीर कोरोना संक्रमण की स्थिति में आईसीयू में भर्ती कराया गया था उनमें से 7 फीसदी में छह महीने के भीतर स्ट्रोक और लगभग 2 फीसदी में डिमेंशिया की समस्या देखने को मिली

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING49 mins ago

ऑफलाइन कक्षाएं शुरू करने स्कूल शिक्षा विभाग ने जारी किया आदेश, इन नियमों का करना होगा पालन…

रायपुर(चैनल इंडिया)| छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण के चलते बीते 2 साल बाद 2 अगस्त को प्रदेश में 10वीं और 12वीं...

BREAKING55 mins ago

खाद की समस्या को लेकर भाजपा ने दिया धरना, राज्यपाल के नाम एसडीएम को सौपा ज्ञापन

जशपुर(चैनल इंडिया)|  राज्य स्तरीय धरना प्रदर्शन में भारतीय जनता पार्टी जिला जशपुर के आह्वान पर आज 26 जुलाई को पत्थलगांव...

BREAKING1 hour ago

विधायक बृहस्पति सिंह और सिंहदेव विवाद, हंगामे के बाद सदन की कार्यवाही कल तक के लिए स्थगित…

रायपुर(चैनल इंडिया)| टीएस सिंहदेव के विधानसभा से अपनी बात कहकर बाहर निकलने के बाद पहले 10 मिनट के लिए सदन...

BREAKING1 hour ago

सदन से निकलने के बाद अपने बंगले पहुंचे सिंहदेव, बंगले में लगा ताला…

रायपुर(चैनल इंडिया)| बृहस्पति सिंह विवाद मामले में सदन से अपनी बात कहकर निकले मंत्री टीएस सिंहदेव अपने शासकीय आवास पहुंच...

BREAKING2 hours ago

छत्तीसगढ़ : अब गाड़ियों का फोटो फिटनेस QR कोड एम-वाहन एप से…

रायपुर(चैनल इंडिया)| प्रदेश में अब बगैर फिटनेस के वाहन सड़कों पर नहीं दौड़ पाएंगे। बिना परिवहन कार्यालय आए अब वाहन...

Advertisement
Advertisement