केरल में कृषि कानूनों के खिलाफ प्रस्‍ताव पास, BJP के एकमात्र MLA ने भी किया समर्थन – Channelindia News
Connect with us

BREAKING

केरल में कृषि कानूनों के खिलाफ प्रस्‍ताव पास, BJP के एकमात्र MLA ने भी किया समर्थन

Published

on

तिरुवनंतपुरम
केरल विधानसभा ने बृहस्पतिवार को सर्वसम्मति से केंद्र के तीनों विवादित कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग करते हुए एक प्रस्ताव पारित किया। 140 सदस्यीय विधानसभा के एकमात्र बीजेपी सदस्य ने भी केंद्र के खिलाफ लाए प्रस्ताव का ‘इसे लोकतांत्रिक भावना करार’ देते हुए समर्थन किया। सत्तारूढ़ सीपीएम के नेतृत्व वाले वाम लोकतांत्रिक मोर्चे (एलडीएफ) और कांग्रेस नीत संयुक्त लोकतांत्रिक मोर्चे (यूडीएफ) के सदस्यों ने समर्थन किया।

‘तीनों कानून किसान विरोधी’
प्रस्ताव में कहा गया है कि ये तीनों कानून ‘किसान विरोधी’ और ‘ उद्योगपतियों के हित’ में हैं, जो कृषि समुदाय को गंभीर संकट में धकेलेंगे। हालांकि, विधानसभा में बीजेपी के एकमात्र सदस्य ओ राजगोपाल ने प्रस्ताव में शामिल कुछ संदर्भों पर आपत्ति दर्ज की। जिसे कोविड-19 नियमों को ध्यान में रखते हुए दो घंटे के विशेष सत्र में पेश किया गया था।

‘कानूनों में संशोधन उद्योगपतियों की मदद के लिए किया’
प्रस्ताव को पेश करते हुए मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने आरोप लगाया कि केंद्र के कानूनों में संशोधन उद्योगपतियों की मदद के लिए किया गया है। उन्होंने कहा, ‘केंद्र द्वारा इन तीन कानूनों को संसद में ऐसे समय में पेश कर पारित कराया गया जब कृषि क्षेत्र गहरे संकट के दौर से गुजर रहा है।’

‘प्रदर्शन का असर केरल पर भी पड़ेगा’
मुख्यमंत्री ने कहा, ‘इन तीन विवादित कानूनों को संसद की स्थाई समिति को भेजे बिना पारित कराया गया। अगर यह प्रदर्शन जारी रहता है तो एक राज्य के तौर पर केरल को बुरी तरह से प्रभावित करेगा।’ उन्होंने कहा कि कृषि क्षेत्र में सुधारों को सावधानीपूर्वक सोच विचार कर लागू करना चाहिए।

इसे भी पढ़े   West Bengal: राज्यपाल धनखड़ ने कहा-प्रार्थना करता हूं नववर्ष में हिंसा मुक्त चुनाव संपन्न हो

‘किसानों की मोल-तोल करने की क्षमता खत्म होगी’
विजयन ने कहा कि नए कानून से किसानों की मोल-तोल करने की क्षमता खत्म होगी और इसका फायदा उद्योगों को होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि कानून में किसानों की रक्षा के लिए कोई कानूनी प्रावधान नहीं है और उनके पास इन उद्योगपतियों से कानूनी लड़ाई लड़ने की क्षमता नहीं है।

‘केंद्र अंतरराज्यीय समिति की बैठक बुलाए
मुख्यमंत्री ने कहा कि यह स्पष्ट है कि विरोध-प्रदर्शन का मुख्य कारण इस कानून की वजह से कृषि उत्पादों की कीमतों में आने वाली संभावित कमी है। उन्होंने कहा कि कृषि राज्य का विषय है और यह राज्यों को सीधे तौर पर प्रभावित करता है। ऐसे में केंद्र सरकार को अंतरराज्यीय समिति की बैठक बुलानी चाहिए और विस्तृत विचार-विमर्श करना चाहिए।

‘केंद्र न्यायोचित मांगों को स्वीकार करे’
मुख्यमंत्री ने कहा, ‘इसलिए, केरल विधानसभा केंद्र से अनुरोध करती है कि वह किसानों द्वारा उठाई गई न्यायोचित मांगों को स्वीकार करे और तत्काल इन विवादित तीन कृषि कानूनों को वापस लेने के लिए कदम उठाए।’

‘राज्यपाल ने 23 दिसंबर के विशेष सत्र को अस्वीकार किया था’
उल्लेखनीय है कि राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने विधानसभा का यह विशेष सत्र 23 दिसंबर को विवादित कृषि कानूनों पर चर्चा के लिए बुलाने के अनुरोध को अस्वीकार कर दिया था। लेकिन गत शुक्रवार को राज्य के विधि मंत्री एके बालन और कृषि मंत्री वीएस सुनील कुमार द्वारा राज्यपाल से मुलाकात के बाद 31 दिसंबर को विशेष सत्र आयोजित करने का फैसला हुआ।

इसे भी पढ़े   आज ही चेंज करें फोन सेटिंग्स, आपकी निजी जानकारी पर Apps की नजर

कोरोना की वजह से नेता प्रतिपत्र उपस्थित नहीं हुए
नेता प्रतिपत्र रमेश चेन्निथला कोविड-19 से उबरने के बाद होम क्वारंटीन हैं, इसलिए सदन में मौजूद नहीं थे। वहीं कांग्रेस के केसी जोसफ ने कहा कि केंद्र द्वारा विवादित कानून को पारित किए हुए 100 दिन हो गए हैं और पंजाब सहित कुछ राज्यों ने पहले ही इसके खिलाफ प्रस्ताव पारित किया गया है और विधेयक लाया गया है।

‘राज्य सरकार को विधेयक लाना चाहिए’
केसी जोसफ ने कहा कि राज्य सरकार को विधेयक लाना चाहिए और प्रस्ताव पारित करना चाहिए। जोसफ ने इसके साथ ही कहा कि तीनों कृषि कानून असंवैधानिक और संघीय ढांचे के खिलाफ है, क्योंकि इसमें राज्यों से परामर्श नहीं किया गया।

कांग्रेस ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में जिक्र किया था: बीजेपी विधायक
बीजेपी विधायक राजगोपाल ने कहा कि जो लोग केंद्र के कानून का विरोध कर रहे हैं वे किसानों का विरोध कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस ने इस कानून का उल्लेख अपने चुनावी घोषणा पत्र में किया था। नया कानून किसानों की आय दोगुनी करने के लिए है।’ हालांकि, जब विधानसभा अध्यक्ष पी श्रीरामकृष्णन ने प्रस्ताव को मतदान के लिए सदन में रखा तो राजगोपाल ने उसका विरोध नहीं किया।

इसे भी पढ़े   #Bollywood: नवाजुद्दीन सद्दीकी ने इस बात को दिया अपनी सफलता का क्रेडिट

‘प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित हुआ’
सत्र के बाद राजगोपाल ने कहा, ‘प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित किया गया। मैंने कुछ बिंदुओ (प्रस्ताव में) के संबंध में अपनी राय रखी, इसको लेकर विचारों में अंतर था। जिसे मैंने सदन में रेखांकित किया।’ उन्होंन कहा, ‘मैंने प्रस्ताव का पूरी तरह से समर्थन किया।’ जब राजगोपाल का ध्यान इस ओर आकर्षित कराया गया कि प्रस्ताव में तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग की गई है, तब भी उन्होंने प्रस्ताव का समर्थन करने की बात कही।

केंद्र को तीनों कृषि कानूनों को वापस लेना चाहिए: बीजेपी विधायक
राजगोपाल ने कहा, ‘मैंने प्रस्ताव का समर्थन किया और केंद्र सरकार को तीनों कृषि कानूनों को वापस लेना चाहिए।’ उन्होंने कहा कि वह सदन की आम राय से सहमत हैं।’ वहीं, यूडीएफ ने प्रस्ताव में संशोधन की मांग करते हुए उसमें प्रदर्शनकारी किसानों से बात नहीं करने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कड़ी निंदा जोड़ने की मांग की। जिसे सदन ने अस्वीकार कर दिया।

‘प्रस्ताव में केंद्र के खिलाफ पर्याप्त संदर्भ’
विपक्ष के आरोप का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रस्ताव में केंद्र सरकार के खिलाफ पर्याप्त संदर्भ है जो प्रधानमंत्री के खिलाफ भी है। विजयन ने कहा कि राज्य सरकार केंद्रीय कृषि कानूनों को निष्प्रभावी करने के लिए विधेयक लाने की संभावना पर भी विचार कर रही है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

R.O. No. 11359/53

CG Trending News

channel india6 hours ago

4 सूत्री मांगों को लेकर शिवसेना के भारतीय कामगार ऑटो यूनियन ने कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

रायपुर। शिवसेना की कामगार इकाई भारतीय कामगार सेना के ऑटो यूनियन के द्वारा बुधवार को 4 सूत्रीय मांगों को लेकर...

https://channelindia.news/breaking-twitter-banned-over-550-accounts-after-tractor-rally-violence-in-delhi/ https://channelindia.news/breaking-twitter-banned-over-550-accounts-after-tractor-rally-violence-in-delhi/
BREAKING7 hours ago

BREAKING: ट्रैक्टर रैली हिंसा के बाद ट्विटर ने 550 से अधिक अकाउंट्स किये बैन

नई दिल्ली। BREAKING: Twitter banned over 550 accounts after tractor rally violence in Delhi: किसानों के गणतंत्र दिवस ट्रैक्टर रैली...

balodabazar c.g.7 hours ago

तीन दिवसीय जनपद स्तरीय गोधन न्याय योजना की समीक्षा शुरू, कलेक्टर ने पहले दिन सिमगा एवं भाटापारा के गौठानो की समीक्षा

बलौदाबाजार| जिला पंचायत बलौदाबाजार के सभागार मे आज से तीन दिवसीय जनपद स्तरीय गोधन न्याय योजना की समीक्षा बैठक की...

channel india8 hours ago

राज्य में जशपुर कलेक्ट्रेट को लोक प्रशासन गतिविधियों के लिए पहला आईएसओ 9001-2015 प्रमाण पत्र प्रदान किया गया

जशपुर| गणतंत्र दिवस के दिन जशपुर जिला कलेक्ट्रेट ने राज्य में सार्वजनिक प्रशासनिक सेवाएं प्रदान करने के लिए पहला आईएसओ...

rape in balia, up rape in balia, up
BREAKING9 hours ago

यूपी: नाबालिग हिन्दू लड़की से रेप, अश्लील वीडियो बना कर धर्म परिवर्तन की साजिश

बलिया। उत्तर प्रदेश के बलिया जिले में एक नाबालिग के साथ रेप करने, उसका अश्लील वीडियो बनाने और शादी के...

खबरे अब तक

Advertisement
Advertisement