खबरे अब तक

channel indiaCHANNEL INDIA NEWSक्राइमदेश-विदेश

काम के समय मे अश्लीलता…..पढ़िये पूरी खबर



मध्य प्रदेश के ग्वालियर स्थित जीवाजी यूनिवर्सिटी के 6 कर्मचारियों पर गाज गिरी है, इनमें से 5 कर्मचारियों की सेवाए समाप्त कर दी गई हैं और एक को नोटिस जारी किया गया है. यह सब तब हुआ जब खुलासा हुआ कि कर्मचारियों ने कंप्यूटर पर 1256 मिनट के पोर्न वीडियो देखे. दरअसल, ग्वालियर की जीवाजी यूनिवर्सिटी के अलग-अलग डिपार्टमेंट के करीब 7 से 8 कर्मचारियों ने एक महीने में 1256 मिनट पोर्न वेबसाइट का उपयोग किया और आठ यूजर आईडी के जरिए पोर्न देखा गया. इन कर्मचारियों में दो महिला कर्मचारी भी शामिल हैं.

इसे भी पढ़े   खौफनाक: ट्यूटर ने फिरौती के लिए छात्र का अपहरण किया, फिर कर दी हत्या

एएनआई की एक रिपोर्ट के मुताबिक, पोर्न वेबसाइट देखने वालों में रेगुलर और आउटसोर्स कर्मचारी शामिल थे. यूनिवर्सिटी प्रबंधन को जानकारी मिलने के बाद कुलपति ने कमेटी बनाई, जिसमें जांच के बाद यह मामला सही पाया गया. इन कर्मचारियों द्वारा यूनिवर्सिटी का नेटवर्क यूज करके पोर्न साइट्स वीडियो का उपयोग किया गया. इसके बाद 4 सर्विस प्रोवाइडर कर्मचारी और एक गेस्ट फैकल्टी की सेवाएं समाप्त कर दी गई हैं. वहीं एक स्थाई कर्मचारी को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है.

वहीं इस खुलासे के बाद जीवाजी यूनिवर्सिटी में हड़कंप मच गया. बताया गया कि कर्मचारी मुंह छुपाते फिर रहे थे. यह भी आरोप लगाया कि इन कर्मचारियों ने यूनिवर्सिटी की इमेज को डैमेज कर दिया. हालांकि अब जांच के बाद यह कार्रवाई की गई है. बता दें कि ग्वालियर में ही करीब दो साल पहले ऐसा ही एक और मामला सामने आया था जब ग्वालियर कलेक्टर कार्यालय में कर्मचारियों द्वारा पोर्न देखने का मामला सामने आया था. उस समय भी खूब हंगामा मचा था. उस समय अधिकारियों के दफ्तर में पोर्न देखने का खुलासा तब हुआ जब सभागार में विभागीय बैठक के दौरान बीच में ही लोकसेवा प्रबंधक, एनआईसी प्रभारी और कार्यालय अधीक्षक को विभागों के कंप्यूटरों की जांच करने के लिए भेजा गया. जांच टीम के सदस्यों ने जब अलग-अलग विभागों के कंप्यूटर के आईपी एड्रेस को चेक किया तो उसमें पोर्न साइट्स, यूट्यूब, और हॉटस्टार जैसे प्लेटफॉर्म पर वीडियो देखे जाने के सबूत मिले थे.

इसे भी पढ़े   गांधी जयंती पर विशेष:छत्तीसगढ़ में हुआ था महात्मा गांधी का प्रवास,जीवन में मौनता ही सबसे प्रभावशाली संप्रेषण": डाॅ. परवीन अख्तर