औरत के हिस्से आई जमीन खानदानी कंगन की तरह….पढ़िए पूरी खबर – Channelindia News
Connect with us

देश-विदेश

औरत के हिस्से आई जमीन खानदानी कंगन की तरह….पढ़िए पूरी खबर

Published

on



हंगामाखेज खबरों के ढेर में हाईकोर्ट का एक सादा-सा फैसला कई परतों के नीचे दबकर रह गया। मामला मध्यप्रदेश का है, जिसमें अदालत की जबलपुर बेंच ने शादीशुदा बेटियाें को भी अनुकंपा नियुक्ति का हक दिया। सुनने में बड़ा ही रूखा और उबाऊ लगता ये फैसला आने वाले वक्त में नजीर साबित हो सकता है। किस तरह? ये समझने से पहले एक बार केस के बारे में जानते हैं।

याचिकाकर्ता महिला ने हाईकोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की थी, जो उसकी दिवंगत मां की नौकरी के बारे में थी। महिला की मां सतना पुलिस में ASI के पद पर थी। कुछ सालों पहले ड्यूटी पर जाते हुए ही एक हादसे में उनकी मौत हो गई। इसके बाद महिला ने अनुकंपा नियुक्ति के लिए आवेदन किया, लेकिन पुलिस विभाग ने आवेदन रिजेक्ट कर दिया। उनका तर्क था कि शादीशुदा बेटी को अनुकंपा नियुक्ति की न तो जरूरत है और न ही नियम। इस पर महिला ने कोर्ट में याचिका दायर कर दी।

संविधान में शामिल आर्टिकल- 14 के समानता के अधिकार के हवाले से महिला के वकील ने दलील दी कि बेटी चाहे अविवाहित हो या शादीशुदा, अनुकंपा नौकरी में उससे भेदभाव नहीं किया जा सकता। इससे पहले ये नियुक्ति केवल लड़कों तक सिमटी हुई थी, और इससे उनकी वैवाहिक स्थिति का भी कोई ताल्लुक नहीं था। अब अदालत के नए फैसले के बाद दायरा थोड़ा खुला है, लेकिन स्थिति खास नहीं बदली। अब भी बात अगर यहां अटक जाए कि अनुकंपा नियुक्ति के तहत नौकरी बेटे या बेटी में से किसे दी जाए, तो बगैर एक बार रुके वो बेटे के पाले में जाएगी। ठीक वैसे ही जैसे जमीन, बैंक बैलेंस या फिर बाकी तमाम दौलत।

इसे भी पढ़े   एक अखाड़ा ऐसा भी जिसके संन्यासी बोलते हैं फर्राटेदार अंग्रेजी...जाने कहा

जिस आर्टिकल- 14 के हवाले से महिला ने ये जंग जीती, उसके मुताबिक देश के किसी भी नागरिक से धर्म, मूल, वंश, जाति, जन्मस्थान या फिर लिंग के आधार पर भेदभाव नहीं किया जा सकता। हालांकि गैर-भेदभाव की ये बात संविधान की उस मूल प्रति तक ही सीमित है, जो सख्त सुरक्षा के बीच हीलियम-भरे चैंबर में सहेजकर रखी हुई है। जैसे ही संविधान नाम की भूलभुलैया से बाहर आते हैं, असल दुनिया शुरू हो जाती है, जहां फर्क ही फर्क हैं। औरत-मर्द में फर्क हो रहा है और हर स्तर पर है। मॉन्स्टर सैलरी इंडेक्स (MSI) का साल 2019 का डाटा बताता है कि समान नौकरी में महिलाएं, अपने सहकर्मी पुरुषों से 19% कम तनख्वाह पाती हैं। IT इंडस्ट्री में ये फर्क और चौड़ा है।

इसे भी पढ़े   आखिर क्यों बैन होने के बाद ही बढ़ रहे है PUB-G के यूजर्स...जानिए

चलिए, दफ्तर का फर्क छोड़कर घर लौटते हैं, लेकिन यहां तो भेदभाव संकरी नदी से सीधे उफनता समंदर बन जाता है। बीवी खाना पका रही है। साथ-साथ जूठे बर्तन भी सकेलती जा रही है। बाजू में मुन्नी-मुन्ना खेल रहे हैं। कुंद-जहनियत के बाद भी उनका होमवर्क कराना और भूख से कुनमुनाने पर मीठी झिड़की लगा इंतजार को कहना भी बीवी के जिम्मे है। दफ्तर से लौट थके मियां आराम फरमा रहे हैं। तिपाई पर चाय की खाली प्याली और नाश्ते की अधखाई तश्तरी पड़ी है।

रसोई में लौटें तो बीवी खाना पकाते हुए दोबारा सामान जमा रही है। डब्बों को तरतीबवार रखा जाता है। तकरीबन सारे काम हो चुके। खाना पककर तैयार है। बच्चे खिलाकर सुलाए जा चुके। लेकिन, थोड़ा आटा अब भी तश्तरी से ढंका रखा है। वजह! मियां जी की थकान उतरे तो फटाफट गर्म रोटियां तवे से उतारकर परोसनी है। उन्हें खिलाकर आप खाने से फारिग होती हैं तो बीवी साहिबा कल के कपड़ों और बच्चों के टिफिन की उधेड़बुन में लग जाती हैं। और ऐसा हो भी क्यों न! घर बैठी को भला काम ही क्या होता है। ऐसे में जरा हाथ-पैर भी न हिलाए तो दवाखाने के चक्कर लगाने पड़ जाएं।

इसे भी पढ़े   आगरा में भीषण हादसा, ट्रक और स्कॉर्पियो की टक्कर में 9 लोगों की मौत

बावर्चीखाने की किचकिच से निकलकर झांकते हैं अपराध की दुनिया में। यहां औरत का शरीर हल्दीघाटी बना हुआ है, जहां पुरुष आपस में लड़ते हुए औरत को रौंद रहे हैं। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो (NCRB) के साल 2020 के अंतिम आंकड़ों के मुताबिक, रोज औसतन 88 औरतों ने बलात्कार की शिकायत दर्ज कराई। ये केवल रेप के रिपोर्टेड आंकड़े हैं। असल मामले इससे कई गुना ज्यादा होंगे, ऐसा खुद NCRB का मानना है। हिंसा के बाकी सारे मामलों की तफसील फिर कभी।

अब बात करते हैं जमीन के टुकड़े पर अधिकार की। एग्रीकल्चरल सेंसस का डेटा बताता है कि देश की लगभग 87.3% महिलाएं घर चलाने के लिए खेती-किसानी करती हैं, लेकिन जिस फसल के लिए वे हाड़गलाऊ मेहनत करती हैं, वो उनकी नहीं, बल्कि किसी पुरुष मालिक की होती है। फिर चाहे वो गांव का कोई पंच हो या फिर अपना ही पति। केवल 10.34% औरतों के पास अपनी जमीन है। ये जमीन भी उनके लिए घी की उस बोतल जैसी होती है, जो सीलबंद हो।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING6 hours ago

छत्तीसगढ में कम हुई कोरोना संक्रमितो की संख्या, 6 हजार 577 नए मरीजो की हुई पहचान, 149 की मौत…

रायपुर(चैनल इंडिया)। छत्तीसगढ़ में पिछले 24 घंटो में 6 हजार 577 नए कोरोना संक्रमित मरीज मिले। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी...

BREAKING7 hours ago

नये विधानसभा के CSP होंगे राहुल देव शर्मा, नया संभाग बनने के बाद हुई पहली पदस्थापना, जारी हुआ आदेश…

रायपुर(चैनल इंडिया)। पुलिस विभाग ने सोमवार देर रात पुलिस विभाग के अफसरों का तबादला आदेश जारी किया है। जारी आदेश...

bihar7 hours ago

प्रेमिका ने रात को प्रेमी को बुलाया घर, परिजनों के साथ मिलकर उतारा मौत के घाट, मामला हुआ दर्ज…

उत्तर प्रदेश के बलिया से एक ऐसा मामला सामने आया जहां एक प्रेमिका ने अपने परिवार वालों के साथ मिलकर...

chandighhar8 hours ago

धमाकेदार ऑफर : Paytm के जरिये अब मुफ्त में बनवाए अपना क्रेडिट कार्ड, कैशबैक के साथ मिलेंगे कई आकर्षक इनाम…

अगर आप Paytm यूजर हैं तो आपके लिए एक खुशखबरी है. आप Paytm से मुफ्त में क्रेडिट कार्ड बनवा सकते...

channel india8 hours ago

महाराष्ट्र निर्मित 09 पेटी शराब के साथ 2 आरोपी गिरफ्तार…

खरोरा(चैनल इंडिया)।वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय यादव के दिशा निर्देशानुसार वरिष्ठ अधिकारियों के मार्ग दर्शन में मादक पदार्थों की तस्करी व...

Advertisement
Advertisement