खबरे अब तक

देश-विदेश

इन 4 गुणों से आप कर सकते हैं सच्चे व सही इंसान की पहचान, जानिए



 

आचार्य चाणक्य ने नीति शास्त्र में व्यक्ति के स्वभाव व गुणों के बारे में बताया है। चाणक्य की नीतियां भले ही अपनाने में कष्ट होता है, लेकिन जिसने भी अपनाया उसका जीवन सुखमय हो सकता है। आज की भाग-दौड़ भरी जिंदगी में चाणक्य की ये नीतियां जीवन की हर कसौटी पर व्यक्ति की मदद करती हैं। अक्सर लोग व्यक्ति की पहचान में गलती कर देते हैं, जिससे उन्हें कष्टों का सामना करना पड़ता हैं। आपके साथ ऐसा न हो इसके लिए पढ़ लें आज की चाणक्य नीति। इस नीति में चाणक्य ने अच्छे व सच्चे व्यक्ति के गुणों के बारे में बताया है।

आचार्य चाणक्य ने चाणक्य नीति के पांचवें अध्याय के दूसरे श्लोक में लिखा है,
यथा चतुर्भिः कनकं परीक्ष्यते निर्घर्षणं छेदनतापताडनैः।
तथा चतुर्भिः पुरुषं परीक्ष्यते त्यागेन शीलेन गुणेन कर्मणा।।

इसे भी पढ़े   आज से शुरू हो रहा जी-20 शिखर सम्मेलन, pm Modi करेंगे शिरकत, जानें भारत के लिए क्‍यों है खास

चाणक्य कहते हैं कि घिसने, काटने, तापने और पीटने। इन चार चीजों से सोने की परख होती है। ठीक उसी तरह से व्यक्ति की पहचान उसके आचरण, उसमें कौन से गुण हैं, त्याग की भावना और कर्म की भावना से होती है।

इसे भी पढ़े   घर के पीछे दिखा शेर तो लोगों ने बुलाई पुलिस, बंदूक लेकर पास पहुंचे तो निकला ये....

1. चाणक्य कहते हैं कि अच्छे व सच्चे व्यक्ति में त्याग की भावना होती है। चाणक्य कहते हैं कि जो व्यक्ति दूसरों के सुख के लिए कुछ नहीं कर सकता, वह भला इंसान नहीं हो सकता है। दूसरों की खुशियों के लिए अपनी खुशियों का त्याग करने वाला व्यक्ति ही अच्छा इंसान माना जाता है।

2. चाणक्य कहते हैं कि व्यक्ति को परखने में उसका आचरण यानी चरित्र काफी मायने रखता है। नीति शास्त्र के अनुसार, जो व्यक्ति बेदाग व बुराइयों से दूर रहते हैं और दूसरों के लिए गलत भावनाएं नहीं रखते हैं। वह श्रेष्ठ होते हैं।

इसे भी पढ़े   35 साल की हुईं सोनम कपूर, जानें उनका अब तक का सफर

3.  चाणक्य कहते हैं कि व्यक्ति को परखने के लिए उसमें कौन- से गुण यह भी देखना चाहिए। अगर व्यक्ति ज्यादा गुस्सा करता है, बात-बात पर झूठ बोलता है, अहंकार से भरा है और दूसरों का अपमान करता है। ऐसा व्यक्ति दूसरों का भला नहीं कर सकता है।

4.  चाणक्य कहते हैं कि व्यक्ति किस स्थिति में कुल में जन्मा है और व्यक्ति के कर्म कैसे हैं। इन बातों के आधार पर भी व्यक्ति को परखना चाहिए।