अंतरजातीय विवाह करने वालों को मिलती है आर्थिक सहायता, जानें कितने लाख रुपये मिलते हैं – Channelindia News
Connect with us

देश-विदेश

अंतरजातीय विवाह करने वालों को मिलती है आर्थिक सहायता, जानें कितने लाख रुपये मिलते हैं

Published

on



भारत आज बेशक नित नई ऊंचाइयों को छू रहा है और विकास की नई इबारत भी लिख रहा है लेकिन देश में आज भी कई लोग रूढ़िवादिता की जंजीरों में जकड़े हुए हैं. इनकी संकीर्ण मानसिकता अंतरजातीय विवाह को इजाजत नहीं देती है. इसी दकियानूसी सोच के कारण कई युवक-युवतियों को अंतरजातीय विवाह करने पर इनके अपने ही मौत की नींद सुलाने से भी गुरेज नहीं करते हैं. 21 वीं सदीं में देश की ये स्थिति काफी चिंतित करने वाली है. लेकिन इन सब के इतर बीच अच्छी बात ये भी है कि तमाम दबावों , रुकावटों के बावजूद समाज निरंतर बदलाव की ओर बढ़ रहा है और इसी का असर है कि अंतरजातीय विवाह का ट्रेंड भी जोर पकड़ रहा है.

डॉ भीमराव अंबेडकर ने भी अंतरजातीय विवाह पर अपने विचार रखे थे

 

गौरतलब है कि अंतरजातीय विवाह को बढ़ावा देने के लिए संविधान निर्माता डॉ. भीमराव अंबेडकर ने भी अपने विचार रखे थे. उन्होंने कहा था कि अंतर जातीय विवाह के बाद लड़के-लड़कियों को घर का सपोर्ट नहीं मिलता है तो ऐसे में सरकार को इन जोड़ों की मदद करनी चाहिए. राज्य और केंद्र सरकार को इन जोड़ों की आर्थिक तौर पर मदद करनी चाहिए ताकि परिवार से मिले असहयोग की भरपाई हो सके.

इसे भी पढ़े   एकादशी व्रत से सभी प्रकार के पाप हो जाते हैं समाप्त,पुरुषोत्तम एकादशी से माता लक्ष्मी जी की विशेष कृपा होती है- महंत रामसुंदर दास

 

अंतरजातीय विवाह करने पर केंद्र सरकार देती है 2.5 लाख रुपये

 

बता दें कि अंतरजातीय विवाह को बढ़ावा देने के लिए केंद्र और राज्य सरकार भी प्रयासरत हैं. ऐसा विवाह करने वालों को केंद्र सरकार द्वारा सहायता राशि भी दी जाती है. इसके लिए सरकार एक स्कीम चला रही है जिसके तहत अगर कोई दलित से अंतरजातीय विवाह करता है तो उस नवविवाहित युगल को मोदी सरकार द्वारा 2 लाख 50 हजार रुपये की सहायता राशि दी जाती है. बता दें ये आर्थिक सहायता डॉ. अंबेडकर स्कीम फॉर सोशल इंटीग्रेशन थ्रू इंटरकास्ट मैरिज के तहत दी जाती है. ये स्कीम साल 2013 में कांग्रेस सरकार द्वारा शुरू की गई थी. मौजूदा सरकार में भी ये योजना चलाई जा रही है.

 

इस स्कीम का उद्देश्य समाज से जाति व्यवस्था की बुराई को खत्म करना है. साथ ही इस कुरीति के खिलाफ साहसिक कदम उठाने वाले युवाओं को प्रोत्साहित करना भी है. हालांकि, दूसरी शादी करने पर इस योजना का लाभ नहीं मिल पाता है.

इसे भी पढ़े   अमेरिका में ट्रंप समर्थकों की हिंसा रही बेअसर, बाइडन के जीत पर संसद में लगी मोहर

 

ऐसे उठा सकते हैं योजना का लाभ

1. नवदंपति को योजना का लाभ उठाने के लिए अपने क्षेत्र के सांसद या विधायक की सिफारिश के साथ आवेदन को भरने के बाद डॉ अंबेडकर फाउंडेशन को भेजें.
2. नवविवाहित युगल आवेदन को पूरा भरकर राज्य सरकार या जिला प्रशासन को सौंप सकते हैं. जिसके बाद राज्य सरकार या जिला प्रशासन आवेदन को डॉ. अंबेडकर फाउंडेशन को भेज देते हैं.

 

योजना का लाभ पाने के लिए इन बातो का रखें ध्यान

 

1. नवदंपति में से कोई एक दलित समुदाय से होना चाहिए. दूसरा दलित समुदाय से बाहर का होना चाहिए.
2. शादी को हिंदू विवाह अधिनियम 1955 के तहत रजिस्टर होना चाहिए. इस संबंध में नवदंपति को एक हलफनामा दायर करना होता है.
3. इस योजना के तहत फायदा उन्हीं नवदंपति को मिलता है जिन्होंने पहली बार शादी की है. दूसरी शादी करने वालों को इसका फायदा नहीं मिलेगा.
4. आवेदन भरकर शादी के एक साल के अंदर डॉ. अंबेडकर फाउंडेशन को भेजना होता है.
5. अगर नवदंपति को राज्य या केंद्र सरकार द्वारा किसी तरह की आर्थिक सहायता पहले मिल चुकी है, तो उसको इस ढाई लाख रुपये की धनराशि में घटा दी जाएगी.

इसे भी पढ़े   Big Breaking: हाथी से टकरा कर पटरी से उतरी पुरी-सूरत एक्सप्रेस, बाल-बाल बचें यात्री और लोको पायलट

आवेदन के साथ इन डॉक्यूमेंट्स की पड़ती है जरूरत

  1. नवदंपति में से जो भी दलित समुदाय से होते हैं उन्हें आवेदन के साथ जाति प्रमाण पत्र लगाना अनिवार्य है
  2. हिंदू विवाह अधिनियम 1955 के तहत शादी रजिस्टर करने के बाद जारी मैरिज सर्टिफिकेट भी अटैच करना होता है.
  3.  आवेदन के साथ कानूनी रूप से विवाहित होने का हलफनामा पेश करना जरूरी है
  4. ऐसा दस्तावेज भी लगाना होता है जिससे यह पता चल सके कि दोनों की यह पहली शादी है.
  5.  नवविवाहित पति-पत्नी को आय प्रमाण पत्र भी देना होता है.
  6.  नवदंपति का संयुक्त बैंक खाते की जानकारी आवेदन में देनी जरूरी है जिसमें सहायता राशि सरकार की ओर से दी जाती है.

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

bihar2 hours ago

दुल्हन के लिए नकली जेवर लाने पर दुल्हे समेत बारातियों को लड़की वालों ने बंधक बना किया मार-पीट, मामला हुआ दर्ज…

उत्‍तर प्रदेश के देवरिया के लार क्षेत्र के खरवनिया पिंडी में शुक्रवार की रात बिहार से आई बारात में जयमाल...

bihar2 hours ago

केवल 17 मिनट में पूरी हुई शादी, दूल्हे ने दहेज में मांगी ऐसी चीज जिसे सुन सब हो गये हैरान

यूपी के शाहजहांपुर में 17 मिनट में हुई अनोखी शादी के बारे में जानकर आप भले अचंभित हो जाये लेकिन...

BREAKING2 hours ago

अगर इस बैंक में है आपका पैसा तो नही मिलेगा वापस, RBI ने रद्द कर दिया है लाइसेंस

भारतीय रिजर्व बैंक ने एक और सहकारी बैंक का लाइसेंस कैंसिल किया है. RBI पश्चिम बंगाल के को-ऑपरेटिव बैंक यूनाइडेट...

BREAKING10 hours ago

मारवाड़ी युवा मंच ने महापौर को सौंपा ज्ञापन, कहा : जल्द प्रारंभ हो कांटेक्ट फ्री ड्राइव-इन वैक्सीनेशन

रायपुर(चैनल इंडिया)। कांटेक्ट फ्री ड्राइव-इन वैक्सीनेशन सुविधा को लेकर मारवाड़ी युवा मंच नवा रायपुर शाखा अध्यक्ष  शुभम अग्रवाल ने महापौर...

BREAKING10 hours ago

छत्तीसगढ़: राजधानी समेत कई जिलों में सीजी टीका एप्प ने बढ़ाई मुश्किलें…

रायपुर(चैनल इंडिया)| छत्तीसगढ़ में 18 से 44 वर्ष के टीकाकरण के लिए शुरू किए गए वेब पोर्टल सीजी टीका में...

Advertisement
Advertisement