महाशिवरात्रि 21 को, 30 वर्षो बाद बनेगा विशिष्ट योग – Channelindia News
Connect with us

आस्था

महाशिवरात्रि 21 को, 30 वर्षो बाद बनेगा विशिष्ट योग

Published

on

रायपुर (चैनल इंडिया ) | महाशिवरात्रि  हिन्दूा धर्म के प्रमुख त्यौहारों में से एक है. शिव भक्त  साल भर अपने आराध्य  भोले भंडारी की विशेष आराधना के लिए साल भर इस दिन की प्रतीक्षा करते हैं. इस दिन शिवालयों में शिवलिंग पर जल, दूध और बेल पत्र चढ़ाकर भक्तय शिव शंकर को प्रसन्न  करने की कोशिश करते हैं. मान्य ता है कि महाशिवरात्रि के दिन जो भी भक्तर सच्चेर मन से शिविलंग का अभिषेक या जल चढ़ाते हैं उन्हें  महादेव की विशेष कृपा मिलती है. कहते हैं कि शिव इतने भोले हैं कि अगर कोई अनायास भी शिवलिंग की पूजा कर दे तो भी उसे शिव कृपा प्राप्तप हो जाती है. यही कारण है कि भगवान शिव शंकर को भोलेनाथ कहा गया है. फाल्गुन मास की कृष्ण चतुर्दशी के दिन आने वाले शिवरात्रि को महाशिवरात्रि कहते हैं जो कि सबसे महत्वपूर्ण मानी जाती है.

महाशिवरात्रि का व्रत हमे दिनांक 21  फरवरी 2020 शुक्रवार को प्राप्त हो रहा है | शंकराचार्य आश्रम के प्रभारी व ज्योतिषाचार्य डॉ इंदुभवानंद जी महाराज ने बताया कि शिवरात्रि का मतलब है भगवान शिव और माता पार्वती का मिलन | इसी दिन को शिवरात्रि कहा गया है | रै अदाने धातु से रात्रि शब्द बनता है रति अदाती इति रात्रि जो सुख ले और सुख दे वहीं रात्रि कहलाती है भारतीय संस्कृति में चार प्रकार की रात्रियों का वर्णन आता है| कालरात्रि महारात्रि मोहरात्रि चादारुडा कालरात्रि नवरात्रि को कहा गया है | महारात्रि शिवरात्रि को कहा गया है और मोहरात्रि जन्माष्टमी को कहा गया है |  दारू रात्रि दीपावली को कहा गया है | उन्होने बताया कि इन चार रात्रियों के प्रत्येक प्राणी को दर्शन करना चाहिए | या रात्रि को पराम्बा भगवती का स्वरूप माना गया है  | उन्होने कहा कि देवी के मूल स्वरूप को ही रात्रि कहा गया है  | देवी बहुत से मोहित दैत्यों को सृष्टि की रक्षा में प्रवृत्त होती हैं  , इसीलिए रात्रि शब्द की वंदना करते हुए कहा गया है  |

READ  *जब चांद मुहर्रम का नजर आता है फलक पर रोती है बहुत हज़रते शब्बीर की मादर.... हाय मेरे प्यासे मजलूम हुसैन*..

उन्होने शिव रात्रि से जुड़े तथ्यो के बारे मे वर्णन करते हुए कहा कि विश्वेश्वरी जगतधात्री गीता में भी कहा गया है “या निशा सर्वभूतानां तस्या जागृति सैयामी शिव” का अर्थ होता है कल्याण ,जो शिवरात्रि को जागरण कर लेता है |  उसका वर्षभर मंगलमय व्यतीत होता है  | इस वर्ष महाशिवरात्रि व्रत संयोग से श्रवण नक्षत्र में प्राप्त हो रहा है  | श्रवण “विष्णु “का स्वरूप माना गया है |

पूजा के लिए सबसे श्रेष्ठ पार्थिव लिंग

आचार्या इंदुभवानन्द ने बताया कि अन्यान्य शिवरात्रि की अपेक्षा यह शिवरात्रि विशिष्ट है , इस शिवरात्रि में पूजन करने से हरिहरांचल करने का पुण्य होगा इस बार दूसरा संजोग शिवरात्रि में आया है कि बृहस्पति अपनी राशि धनु में स्थित है तथा शनि भी अपनी राशि मकर में स्थित है अतः रात्रि कालीन अभिषेक करने से ज्योतिष के अनुसार चार  विशिष्ट योग प्राप्त होंगे , जो चारो तारा गणों से बनते हैं इसमें दो योग इस शिवरात्रि में सहज ही प्राप्त हो रहे हैं | प्रथम प्रहर अभिषेक करने से हंश नाम का योग प्राप्त हो रहा है जो बृहस्पति से बनता है दूसरे पर अभिषेक करने से सस नाम का योग प्राप्त हो रहा है इससे व्यक्ति को ज्ञान और मोक्ष की प्राप्ति होगी ऐसा योग 30 वर्षों के बाद बन रहा है | आचार्य ने कहा कि प्रथम प्रहर में शिवाय नमः के द्वारा भगवान शंकर का पूजन करना चाहिए , दूसरे प्रहर में शंकराय नमः कहकर भगवान शिव का पूजन करना चाहिए , तीसरे प्रहर में महेश्वराय नमः कहकर तथा चौथे पहर में रुद्राय नमः कहकर भगवान् शंकर का पूजन करना चाहिए | अंत में भगवान से प्रार्थना करते हुए व्रत की समाप्ति करना चाहिए |

READ  युवा महोत्सव में कोरिया के प्रतिभागियों ने दिखाया जलवा, जीते ढेरो पदक

आचार्य इंदुभवानन्द ने कहा कि पूजन विधि के अनुसार सबसे श्रेष्ठ पार्थिव लिंग को माना गया है पार्थिव लिंग का पूजन का विशेष महत्व होता है | भिन्न- भिन्न प्रकार के शिवलिंगो का विधान होता है |हीरा के शिवलिंग से आयु की प्राप्ति होती है मोती के शिवलिंग से लोभ का नाश होता है वैदूर्य मणि के शिवलिंग का पूजन करने से शत्रु विनाश पुखराज से लक्ष्मी की प्राप्ति पदमाराग से बने शिवलिंग का पूजन करने से सुख प्राप्त होता है ,इंद्रनील के लिंग से यश की प्राप्ति होती है ,स्फटिक लिंग से मनोरथ की पूर्ति होती है ,चांदी के शिवलिंग से राज्य की प्राप्ति तथा पिता की मुक्ति होती है | स्वर्ण के लिंग से सत्य लोग की प्राप्ति होती है, पीतल से पुष्टि की प्राप्ति होती है उड़द से बने शिवलिंग का पूजन करने से स्त्री की प्राप्ति होती है गोबर से बने शिवलिंग का पूजन करने से रोग नाश होते हैं  बांस से बने शिवलिंग का पूजन करने से वंश की वृद्धि होती है

शिवप्रिया जलधारा शिव को अत्यंत प्रिय भगवान शिव के संबंध में कहा गया है की शिवप्रिया जलधारा भगवान शंकर को अत्यंत प्रिय है प्राणियों को उनका निष्काम भाव से पूजन करना चाहिए , इनके पूजन से अभीष्ट फल की प्राप्ति होती है

READ  जिस विमान यात्री के लिए रायपुर में हुई थी इमरजेंसी लैंडिंग, हुई मौत, पढ़िए पूरी खबर

राशि अनुसार कर सकते हैं शिव पूजा

मेष- शिवरात्रि पर कच्चा दूध और दही शिवलिंग पर चढ़ाएं। धतूरा अर्पण करें.कर्पुर जलाकर से आरती करें.

वृषभ- शिवलिंग को गन्ने के रस से स्नान कराएं। मोगरे का इत्र लगाएं.दीपक जलाकर आरती करें.

मिथुन- शिवरात्रि पर स्फटिक के शिवलिंग की पूजा करें। लाल गुलाल, कुमकुम, चंदन, इत्र चढ़ाएं.आंकड़े के फूल अर्पण करें.

कर्क- शिवरात्रि पर अष्टगंध चंदन से अभिषेक करें.बेर और आटे से बनी रोटी का भोग लगाकर आरती करें.

सिंह- फलों के रस में मिश्री मिलाकर शिवजी का अभिषेक करें. आंकड़े के पुष्प अर्पण करें, मीठा भोग लगाएं.

कन्या- बेर, धतूरा, विजया यानी भांग, आंकड़े के फूल चढ़ाएं. बिल्व पत्रों पर रखकर मिठाई का भोग चढ़ाएं.

तुला- अलग-अलग फूल जल मिलाएं और शिवलिंग को स्नान कराएं। बिल्व, मोगरा, गुलाब, चावल, चंदन समर्पित करें.आरती करें.

वृश्चिक- शुद्ध जल से स्नान शिवलिंग को कराएं। शहद, घी से स्नान कराने के बाद फिर से जल से स्नान कराएं और आरती करें.

धनु- चावल से शिवलिंग का श्रृंगार करें और सूखे मेवे का भोग लगाएं.बिल्व पत्र, गुलाब आदि से श्रृंगार करें और आरती करें.

मकर- गेंहू से शिवलिंग को ढंककर पूजन करें.इसके बाद ये गेंहू गरीबों में दान कर दें.

कुंभ- सफेद-काले तिलों को मिलाकर किसी ऐसे शिवलिंग पर चढ़ाएं, जो एकांत में हो.आरती करें.

मीन- शिवरात्रि पर पीपल के नीचे बैठकर शिवलिंग का पूजन करें.ऊँ नम: शिवाय का 35 बार जाप करें, बिल्व पत्र चढ़ाएं और आरती करें.

Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

खबरे छत्तीसगढ़22 hours ago

अनाज वितरण में लापरवाही के कारण क्लेक्टर झा ने 04 शिक्षक को किया निलंबित!!

पृथ्वीलाल केशरी की रिपोर्ट- रामानुजगंज(चैनल इंडिया)-  कलेक्टर संजीव कुमार झा ने विकासखण्ड रामचन्द्रपुर के प्राथमिक शाला चुमरा में पदस्थ सहायक...

Special News22 hours ago

सांसद सोनी का तीखा प्रहार कहा- पहले मुख्यमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री को एम्स भेजें, फिर कांग्रेस के लोग नसीहतें दें

रायपुर(चैनल इंडिया)05/04/2020 –  भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष व रायपुर संसदीय क्षेत्र के सांसद सुनील सोनी ने कोरोना वायरस...

खबरे छत्तीसगढ़23 hours ago

बड़ी खबर: जिले में अवैध शराब पर ताबड़तोड़ कार्यवाही जारी, 20 लाख का शराब जप्त!!

बलौदाबाजार(चैनल इंडिया) 05 अप्रैल2020 । जिले के नए एसपी प्रशांत ठाकुर ने 25 मार्च को पदभार ग्रहण करते ही जिले...

खबरे छत्तीसगढ़24 hours ago

BIG BREAKING: मानिकपुर के पहाड़ मे मिला नरकंकाल!!

चैनल इंडिया- राजनांदगांव डोंगरगढ़ थाना अंतर्गत ग्राम मानिकपुर के पहाड़ में एक नरकंकाल मिला है, जिसकी जानकारी मानिकपुर सरपंच ने...

खबरे छत्तीसगढ़1 day ago

सरायपाली सब्जी बाजार में सोशल डिस्टेन्स की खबर चैनल इंडिया में छपने के बाद प्रशासन हुआ संख्त स्वयं ऐसडीओपी व टीआई निकले सब्जी बाजार !!

सरायपाली (चैनल इंडिया)05/04/2020:- सरायपाली के पुरानी मंडी स्थित अस्थायी  सब्जी बाजार व डेली बाजार में सोशल डिस्टेंटिंग का पालन नही...

Advertisement

खबरे अब तक

Advertisement