‘हुस्ना’ की जगह ‘हुसन’ को जेल में किया बंद, अब पांच लाख के मुआवजे का आदेश – Channelindia News
Connect with us

क्राइम

‘हुस्ना’ की जगह ‘हुसन’ को जेल में किया बंद, अब पांच लाख के मुआवजे का आदेश

Published

on



इंदौर पुलिस की गंभीर लापरवाही के एक मामले में मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय ने राज्य सरकार को 68 वर्षीय व्यक्ति को पांच लाख रुपये मुआवजा देने का आदेश दिया है। नाम की गफलत के कारण इस बेकसूर बुजुर्ग को हत्याकांड में उम्रकैद की सजा पाने वाले व्यक्ति के स्थान पर चार महीने तक जेल में बंद रखा गया। बड़ी बात यह है कि वास्तविक दोषी की पैरोल पर छूटने के बाद साढ़े तीन साल पहले मौत हो चुकी है।

न्यायमूर्ति एससी शर्मा और न्यायमूर्ति शैलेंद्र शुक्ला ने धार जिले के हुसन (68) के बेटे कमलेश की बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका मंजूर करते हुए सोमवार को यह फैसला सुनाया। धार जिले के एक हत्याकांड में सत्र अदालत ने ‘हुस्ना’ नाम के व्यक्ति को उम्रकैद की सजा सुनाई थी। जेल से पैरोल पर छूटने के बाद 10 सितंबर 2016 को उसकी मौत हो गई थी।

READ  खुलासा: दिल्ली पुलिस की सब इंस्पेक्टर प्रीति को गोली मारने वाला निकला SI, हत्या करने के बाद किया ऐसा...

जब यह सजायाफ्ता कैदी पैरोल की अवधि खत्म होने के बावजूद जेल नहीं लौटा, तो उसके खिलाफ गिरफ्तारी वॉरंट जारी किया गया था। पुलिस ने मिलते-जुलते नाम की गफलत के कारण ‘हुस्ना’ के स्थान पर ‘हुसन’ को गिरफ्तार कर 18 अक्तूबर 2019 को इंदौर के केंद्रीय जेल भेज दिया था। जनजातीय समुदाय से ताल्लुक रखने वाला यह 68 वर्षीय शख्स पढ़-लिख नहीं सकता और उसके बेकसूर होने की लाख दुहाई देने के बावजूद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया था।

READ  डॉक्टर की कुर्सी पर बैठ गया मानसिक रोगी, फर्राटेदार अंग्रेजी बोल मरीजों को लिख दी दवा

उच्च न्यायालय की युगल पीठ ने इस बड़ी लापरवाही पर गहरी नाराजगी जताते हुए आदेश दिया कि निर्दोष हुसन को फौरन जेल से रिहा किया जाए। पीठ ने पुलिस के एक अनुविभागीय अधिकारी (एसडीओपी) के खिलाफ अदालत की अवमानना का मामला दर्ज करने का आदेश भी दिया। इस अधिकारी ने मामले में अदालत को हलफनामे में गलत जानकारी दी थी।

पीठ ने कहा कि उन सभी पुलिस कर्मियों के खिलाफ भी अदालत की अवमानना का मामला दर्ज किया जाये जिन्होंने हुसन की गलत गिरफ्तारी के वक्त संबंधित थाने के रोजनामचे में उसे ‘हुस्ना’ (मृत सजायाफ्ता कैदी) बताते हुए उसके बारे में अलग-अलग प्रविष्टियां दर्ज की थीं।

READ  शिवसेना-भाजपा में बढ़ी तकरार, उद्धव ठाकरे ने अहम बैठक की रद्द

अदालत ने कहा कि यह मामला आरोपियों की सही पहचान किये बगैर बेकसूर लोगों को गिरफ्तार किये जाने की मिसाल है। लिहाजा निर्देश दिया जाता है कि गिरफ्तारी के सभी मामलों में संबंधित एजेंसियां आरोपियों की पहचान के लिये दस्तावेजी सबूतों के साथ ही बायोमीट्रिक प्रणाली का भी सहारा लेंगी ताकि हुसन जैसे बेकसूर लोगों को दोबारा जेल न जाना पड़े।

 

Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

खबरे छत्तीसगढ़10 hours ago

कांग्रेस कल आयकर कार्यालय का करेगी घेराव

कांग्रेस कल आयकर कार्यालय का करेगी घेराव Raipur: मोदी सरकार द्वारा छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार को अस्थिर करने के लिए...

खबरे छत्तीसगढ़10 hours ago

आयकर छापा के खिलाफ पूरा मंत्रिमंडल राज्यपाल को ज्ञापन सौंपने राजभवन पहुंचे

 रायपुर। आयकर छापों को राज्य सरकार ने दुर्भावनापूर्ण कार्रवाई माना है। कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने कहा कि संघीय ढांचे में...

खबरे छत्तीसगढ़12 hours ago

प्रदेश में हो रही आयकर विभाग की छापेमारी को लेकर सीएम भूपेश बघेल ने बुलाई आपात बैठक… मंत्रियों के साथ पहुँचे राजभवन

छत्तीसगढ़ में आईटी छापा के बाद मचे हड़कंप के बीच मुख्यमंत्री ने आज विधानसभा में मंंत्रियों की आपात बैठक ली....

खबरे छत्तीसगढ़13 hours ago

नगर में बेहतर व सुरक्षित यातायात हेतु नगरपालिका में व्यापारियों की हुई बैठक

मुनादी के बाद 1 मार्च से होगी सामानों की जप्ती सरायपाली (चैनल इंडिया) पूरे छत्तीसगढ़ में बेहतर व सुरक्षित यातायात...

खबरे छत्तीसगढ़14 hours ago

केंद्रीय विद्यालय में मनाया गया राष्ट्रीय विज्ञान दिवस

सरायपाली (चैनल इंडिया) आज केंद्रीय विद्यालय सरायपाली में राष्ट्रीय विज्ञान दिवस हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। कार्यक्रम की शुरुआत प्राचार्य...

Advertisement

खबरे अब तक

Advertisement