Connect with us

देश-विदेश

एक ऐसा देश जहां के लोग पीते हैं कॉकरोच का शरबत, वजह है बेहद खास

Published

on



कॉकरोच आपको भले ही पसंद ना हो या फिर आप उससे डरते हो, लेकिन चीन के लोगों के लिए यह कमाई का जरिया है। कॉकरोच संभावित औषधीय गुणों के चलते चीनी उद्योग के लिए व्यवसायिक अवसर की तरह है। चीन सहित कई एशियाई देशों में कॉकरोच को तल कर खाया जाता है लेकिन अब इनको बड़े पैमाने पर पैदा किया जाने लगा है।

चीन के शीचांग शहर में एक दवा कंपनी हर साल 600 करोड़ कॉकरोच का पालन करती है। साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट के अनुसार एक बिल्डिंग में इनको पाला जा रहा है। इस बिल्डिंग का क्षेत्रफल लगभग दो खेल के मैदानों के बराबर है। वहां अलमारियों की पतली कतारों में इसे पाला जाता है। इनके लिए खाने और पानी का इंतजाम होता हैं। अंदर घुप्प अंधेरा होता है और वातावरण में गर्मी और सीलन बनाकर रखी जाती है। फार्म के अंदर कीड़ों को घूमने और प्रजनन करने की आजादी होती है। उन्हें सूरज की रोशनी से दूर रखा जाता है और वो बिल्डिंग के बाहर नहीं जा सकते हैं।

READ  जन्मस्थान विवाद: कई चमत्कारों और विवादों से जुड़ा है शिरडी साई मंदिर, जानिए सबकुछ

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सिस्टम से कॉकरोच पालन पर नजर रखी जाती है। इसके जरिए बिल्डिंग के अंदर तापमान, खाने की उपलब्धता और नमी पर नियंत्रण रखा जाता है। लक्ष्य कम समय में ज्यादा से ज्यादा कॉकरोच पैदा करने का होता है। जब कॉकरोच व्यस्क होते हैं, इन्हें कुचल दिया जाता है और इसका शरबत की तरह चीन के परंपरागत दवाई के रूप में पिया जाता है। इसका इस्तेमाल दस्त, उल्टी, पेट के अल्सर, सांस की परेशानी और अन्य बीमारियों के इलाज में किया जाता है।

READ  लकवा का अटैक आते ही करे ये उपाय ! लकवे से बच जाओगे

शानडॉन्ग एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर और इंसेक्ट एसोसिएशन ऑफ शानडॉन्ग प्रोविंस के निदेशक लियू यूशेंग ने द टेलीग्राफ अखबार से कहा कि कॉकरोच वास्तव में एक चमत्कारी दवा हैं। वो आगे कहते हैं कि वे कई बीमारियों का इलाज कर सकते हैं और अन्य दवाओं की तुलना में वे बहुत तेजी से काम करते हैं। प्रोफेसर लियू के मुताबिक, बुजुर्ग आबादी चीन की समस्या है। वो कहते हैं कि हमलोग नई दवाई खोजने की कोशिश कर रहे हैं और ये पश्चिमी देशों की दवाई से सस्ती होगा।

दवाई के लिए कॉकरोच का पालन सरकारी योजनाओं का हिस्सा है और इसकी दवाई का अस्पतालों में इस्तेमाल किया जा रहा है। लेकिन कई ऐसे भी हैं जो इस पर चिंता जाहिर करते हैं। बीजिंग के चाइनीज एकेडमी ऑफ मेडिकल साइंस के एस शोधकर्ता ने अपना नाम न प्रकाशित करने की शर्त पर साउथ चाइन मॉर्निंग पोस्ट से कहा कि कॉकरोच का शरबत रोगों के लिए रामबाण इलाज नहीं है। यह सभी बीमारियों पर जादुई असर नहीं करता है।

READ  *कश्मीर पर खीझ गए इमरान, कहा- हिंदुस्तान पर हमला कर दें क्या?*

एक बंद जगह में इस तरह के कीड़े को पालन और पैदावार बढ़ाना खतरनाक साबित भी हो सकता है। चाइनीज एकेडमी ऑफ साइंस के प्रोफेसर झू केयोडॉन्ग कहते हैं कि अगर यह इंसान की गलती या फिर भूकंप के कारण अरबों कॉकरोच बाहर आ जाएं, तो यह विनाशकारी भी साबित हो सकता है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

खबरे छत्तीसगढ़15 hours ago

कृषि भूमि के रकबा के आधार पर पंजीकृत किसानों की धान खरीदी की जाए

 आप नेताओ ने एसडीएम को मुख्यमंत्री के नाम सौपा ज्ञापन सरायपाली (चैनल इंडिया) सरायपाली आप पार्टी के नेताओ ने मुख्यमंत्री...

खबरे छत्तीसगढ़15 hours ago

वनांचल ग्राम बाराडोली स्कूल में विदाई समारोह में अनेक रंगारंग कार्यक्रम का आयोजन

सरायपाली (चैनल इंडिया) आज कक्षा 10वी के विद्यार्थियो के विदाई समारोह में  नवनियुक्त सरपंच लक्ष्मीशंकर दीवान के मुख्य आतिथ्या में...

खबरे छत्तीसगढ़15 hours ago

सरायपाली स्थित केंद्रीय विद्यालय में विद्यालय प्रबंध समिति की बैठक आयोजित

सरायपाली (चैनल इंडिया) केंद्रीय विद्यालय सरायपाली में कुणाल दुदावत (एस. डी. एम) व नामित अध्यक्ष, विद्यालय प्रबंधन समिति केंद्रीय विद्यालय...

क्राइम16 hours ago

स्कूली लड़की छेड़छाड़ का आरोपी शेख शाहबाज बुरका में छिपकर घूमते हुवे पकड़ा गया, भेजा गया जेल , गिरफ्तारी से बचने बुरका का लिया सहारा

सरायपाली (चैनल इंडिया) विगत 14 फरवरी को स्कूल में पढ़ने वाली एक स्कूली छात्रा को संध्या होटल के सामने जबरदस्ती...

खबरे छत्तीसगढ़16 hours ago

वार्षिकोत्सव में सुरडोंगर स्कूल के बच्चों ने दी मनमोहक प्रस्तुति

डौंडी (चैनल इंडिया) शासकीय उच्च. माध्यमिक विद्यालय सुरडोंगर में वार्षिक उत्सव का कार्यक्रम  प्राचार्य बी.के. बहुरूपी के अध्यक्षता एवं कोमेश...

Advertisement

खबरे अब तक

Advertisement